राजधानी एक्सप्रेस लूट की कहानी, एक-एक प्वाइंट लुटेरों की जुबानी बक्सर : पटरियों की ज्वाइंट पर सिक्का डाल कर लूटी गयी राजधानी एक्सप्रेस के यात्रियों को नशीला पाउडर सुंघाया गया था. इस बात का खुलासा पुलिस की पूछताछ में हुआ है. गिरफ्तार अपराधियों के पास से आधा किलो से अधिक नशीला पाउडर बरामद किया गया है. लखनऊ रेल पुलिस महानिदेशक गोपाल गुप्ता के निर्देश पर गोरखपुर रेल डीएसपी, बलिया व मुगलसराय जीआरपी इंचार्ज व इलाहाबाद रेल थाना इंस्पेक्टर को लगाया गया था. जांच टीम ने लुटेरों की निशानदेही पर नशीला पाउडर बरामद किया. बताया जाता है कि कांड के मास्टरमाइंड फतेह हुसैन उर्फ सावन बाबा के पास से 140 ग्राम नशीला पाउडर, 1 मोबाइल, 1 पावरबैंक, पांच हजार 50 रुपये, ओमप्रकाश के पास से 150 ग्राम नशीला पाउडर, 1 मोबाइल, 48 सौ रुपये, आर्टिफिशियल ज्वेलरी तथा चार्जर, चन्दन कुमार के पास से 120 ग्राम नशीला पाउडर, एक लेडीज पर्स व 62 सौ रुपये नकदी तथा राजा के पास से 125 ग्राम नशीला पाउडर, एक लेडीज पर्स, 53 सौ रुपये नगद बरामद किये गए. वहीं लूट के जेवरात खरीदने वाले स्वर्ण दुकानदार किशन सोनी के पास से 12 ग्राम सोना, 3 सोने की टिकुली, 1 चेन व एक झुमका बरामद किया गया है. पांच घंटे तक हुआ मंथन, कैसे रोकी जाये दुर्घटना बुलेट ट्रेन चलाने की तैयारी में जुटे रेल मंत्रालय को सिक्का रखकर ट्रेन लूटने वालों ने बड़ी चुनौती दे डाली है. इस समस्या से निदान के लिए यूपी व बिहार के रेल अधिकारियों ने पांच घंटे तक माथापच्ची की. मीटिंग में मुगलसराय डीआरएम एसके पंकज, इलाहाबाद के रेल एसपी कपीन्द्र कुमार सिंह, पटना रेल एसपी जितेंद्र मिश्रा, गोरखपुर रेल डीएसपी त्रिपुरारी पांडेय, दानापुर कमांडेंट चंद्रमोहन मिश्रा, दानापुर रेल डीएसपी विपिन कुमार, मुगलसराय जीआरपी इंचार्ज राजेंद्र कुमार,.. सुरेश प्रबंधक

Published in National

न सीएम सुन रहे न पीएम, बाॅलीवुड स्टार सलमान की बीईंग ह्यूमन ने भी नहीं की मदद कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के गृह जिले के निवासी का सरकार में नहीं कोई मददगार… अमन पांडे, मोतिहारी। सुन रहा है ना तू, क्यों रो रही हूं मैं, मंजिलें रुसवा हैं खोया है रास्ता, कोई फरिश्ता मदद को आए… बस इतनी सी इल्तेजा… कर दे इधर भी तू निगाहें…. मोतिहारी की बहू जूली इतना कह फफक-फफकर रो पड़ती हैं। उनके पति रुपेश कुमार पाण्डेय मुंबई के ग्लोबल अस्पताल में मौत से जूझ रहे हैं। पैसे के आभाव में हर पल मौत की ओर बढ़ रहे हैं। उनका लिवर खराब हो चुका है। ट्रांसप्लांट के लिए 25 लाख रुपये की जरूरत है। नोटबंदी के इस दौर में न जमीन बिक रही न मकान…! उनके घर के जेवर व बचे-खुचे पैसे अब तक के इलाज में खर्च हो चुके हैं। कोई तो मेरे पति के ऑपरेशन के लिए मदद करे, क्योंकि सरकार चुप बैठी है। क्या मेरे पति का ऑपरेशन इसलिए नहीं होगा कि वह गरीब है? इंसानी जान की कीमत क्या कुछ भी नहीं…? जूली का दर्द उस बेजार व्यवस्था की पोल खोलता है, जिसमें अमीर-गरीब के बीच का फर्क साफ दिखता है। कहने को तो अनेक स्वयं सेवी संस्थाएं और सरकार के जनप्रतिनिधि गरीबों की मदद के लिए हर समय तैयार रहते हैं, लेकिन इससे बड़ा सच क्या हो सकता है कि इस गरीब का पैसे के अभाव में ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है। घर परिवार के इकलौता कमाऊ सदस्य 41 साल के रुपेश की स्थिति तेजी से बिगड़ रही है। इस बीच प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस बेबस इंसान की मदद से साफ इंकार कर दिया है। परिवार के अनुरोधों को नियमों का हवाला देकर नाकार दिया है। 16 दिसंबर को पत्र लिखकर पीएमओ ने मदद करने में असमर्थ जता दिया है। केंद्रीय कृषि मंत्री व मोतिहारी के सांसद राधामोहन सिंह ने इस परिवार की बेबसी पर तरस खाकर पीएमओ से मदद की सिफारिष की थी। उसके जवाब में 16 फरवरी को लिखे पत्र में प्रधानमंत्री कार्यालय ने मदद करने में असमर्थता वाली बात कही है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने लिखा है कि रुपेश के आवेदन की जांच की गई और उसकी गुहार सही भी पाई गई लेकिन अर्जी स्वीकार नहीं की जा सकती। पीएमओ ने अपनी दलील में कहा है कि मरीज की परिस्थितियां चाहे जैसी हो, सरकार अपनी शर्तों पर मदद करती है। सरकार ने ये कारण गिनाए हैं और अर्जी लौटा दी है। कहा है कि मरीज सरकारी अस्पताल में इलाजरत होना चाहिए या प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से अनुमोदित पैनल में शामिल प्राइवेट अस्पताल में इलाज कराने के लिए ही सरकार अपने कोष से सहायता देती है। सरकार का यह जवाब सुनकर इस परिवार के पांव तले जमीन खिसक गई है। अब इस परिवार को किसी फरिष्ते का इंतजार है। परिवार ने हिंदुस्तान से मदद की गुहार लगाई है। सरकारें नहीं पिघलीं….क्या आप…..छोटी मदद बचा सकती है जिंदगी…! कहां-कहां न लगाई गुहार, राह ताकता रह गया परिवार… बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, विधानसभा अध्यक्ष विजय चैधरी समेत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह, वित मंत्री अरूण जेटली, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और पीएमओ कार्यालय के अलावा फिल्म स्टार सलमान खान और उनकी संस्था वीईंग ह्यूमन, अक्षय कुमार, आमिर खान, शाहरुख खान और उद्योग पति मुकेश अंबानी से भी मदद की गुहार लगाई है। इन फिल्मी हस्तियों से ट्वीटर के जरिए मदद मांगी है। सलमान व शाहरुख के आवास पर मुंबई में 2 दिसंबर को रुपेश के परिजन मदद के लिए गुहार लगाने गया भी हुआ था लेकिन उनसे मुलाकात नहीं हो पाई। सलमान को अनगिनत बार ई-मेल भी किया गया पर कोई जवाब नहीं आ सका। इसके साथ ही देश की तमाम बड़ी हस्तियां यथा फिल्मी, उद्योगपति, धनाढ्यों, रईसों, राजनीतिज्ञों से भी मदद की गुहार लगाई। किस-किस को और कहां-कहां न गुहार लगाई, उन सबसे गुहार वाले प्रमाण भी इस परिवार के पास मौजूद हैं। सोशल साइट्स पर अनगिनत पोस्ट किए गए। रुपेश की फैमिली बहुत ही गरीब है तथा आॅपरेशन कराने में असमर्थ है। इस फैमिली को आप सबकी मदद की बहुत जरूरत है। मोतिहारी शहर के अंबिकानगर मुहल्ले का रहने वाला रूपेश मुंबई के ग्लोबल हाॅस्पीटल में मौत से जंग लड़ रहे हैं। गरीबों का हमदर्द कहलाने का दिखावा करने वाली पटना और दिल्ली की सरकारों का इस मामले में असली चेहरा सामने आ जाता है। केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के गृह जिले के निवासी रुपेश और उनके परिवार को कम से कम केंद्र से मदद की आस थी लेकिन अब तो…! हालातों का मारा रुपेश और उसका परिवार फरिश्ते के इंतजार में है। रुपेश के मां-बाप इस दुनिया में नहीं हैं। हाल ही में उनकी मृत्यु हुई है। इलाज के बगैर किसी को नहीं मरने देने का भरोसा दिलाने वाले रहनुमाओं की नियत और नीतियां इससे परिलक्षित होती हैं। इस बदनसीब इंसान की बेबसी और लाचारी सिस्टम पर करारा चोट करती है। भारत जैसे देश के लिए यह बडा सवाल है। नोटबंदी के इस दौर में इंसानी जान की कीमत क्या इतनी सस्ती हो गई है… क्रॉनिक लीवर डिजीज से ग्रस्त हैं रुपेश पांडेय… रुपेश पांडेय को क्रॉनिक लिवर डिजीज है। यह बीमारी हेपेटाइटिस बी से संबंधित है। वे मुंबई के ग्लोबल हॉस्पिटल में एडमिट हैं। वहां के डिपार्टमेंट आॅफ हेपटोलॉजी के हेड डॉ. समीर आर शाह ने अविलंब लिवर ट्रांसप्लांट की एडवाइस दी है। कहा है कि मरीज की जान बचाने के लिए लिवर ट्रांसप्लांटेशन ही एकमात्र विकल्प है। लिवर ट्रांसप्लांटेशन में 25 लाख से अधिक रूपये खर्च बताया है। अपने परिवार में इकलौता अर्निंग पर्सन हैं रुपेश… रूपेश की पत्नी जूली के मुताबिक वह घर के इकलौते कमाऊ मेंबर हैं। उन्हीं पर सारा दारोमदार है। घर में दो बच्चे राजा व निषा अभी मैट्रिक में हैं। पिता के इस हाल में होने से उनका भविष्य अंधकार में है। उनके बीमार रहने से आय के साधन तो पहले ही बंद हो गए हैं, उपर से घर की जमा पूंजी भी हाथ से निकल गई है। परिवार वाले बिहार से लेकर मुंबई तक इलाज करा कर थक चुके हैं। घर की आर्थिक स्थिति अत्यंत खराब है। अब तक के इलाज में ही सारे पैसे खत्म हो गये हैं। यहां तक सगे-संबंधियों से कर्ज लेकर भी इलाज कराया गया है। अब कोई कर्ज देने को तैयार नहीं। नोटबंदी के इस दौर में घर की जमीन-जायदाद बिकने से रही। ऐसे में लिवर ट्रांप्लांटेशन के लिए कहां से 25 लाख रुपये आएंगे। लिवर ट्रांसप्लांट में आप रुपेश की मदद करना चाहते हैं, तो यहां कर सकते हैं संपर्क। रुपेश के भाई: अमन पाण्डेय मोबाइल नंबर 09470285969 (ये लेखक के अपने विचार है।)

Published in Public Opinion

सिवान पुलिस की महिमा के सजा काट रहे पांच निर्दोष। मृतका निकली जिन्दा,घर आयी वापस, लेकिन पांच निर्दोष काट रहे है जेल। एक माह पहले हुयी थी हत्या,सिवान पुलिस ने की वर्क आउट, निर्दोष गये जेल। आज जनादेश एक्सप्रेस समाचार पत्र ने किया खुलासा। पुलिस की होने लगी किरकरी।

ससुराल गये दामाद को पहले तो चोर बता बेरहमी से पीटा, फिर जिंदा जलाने... गोपालगंज : बिहार के गोपालगंज में नगर थाना क्षेत्र के मैनपुर गांव में अपने ससुराल आये दामाद सहित तीन लोगों को ससुराल वालो ने चोर बता जमकर पीटायी कर दी. उसके बाद दामाद व बेटी को जलाने का प्रयास भी किया गया. आसपास के लोगों की मदद से घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल मे भरती कराया गया. जानकारी के मुताबिक बसडीला नवका टोला गांव के रामाश्रय भगत के पुत्र मंटु कुमार की शादी मैनपुर गांव के जयनाथ भगत की पुत्री बबिता कुमारी के साथ हुयी थी. शादी के बाद मायके वाले बबिता को बुलाकर अपने घर ले गये और 29 मार्च को विदाई की तारीख तय कर दी. तय तारीख पर दामाद मंटु कुमार अपने पिता व भाई के साथ पत्नी को बुलाने के लिए गया तो ससुराल वालो ने पत्नी को भेजने से इनकार कर दिया और चोर का आरोप लगाकर जमकर पीटायी कर दी. इतना ही नहीं दामाद व बेटी पर तेल डालकर जलाने का प्रयास भी किया गया. आसपास के लोगों की मदद से घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल मे भरती कराया गया. इस मामले को लेकर पीड़ित के बयान पर थाने मे प्राथमिकी दर्ज करायी गयी. दर्ज प्राथमिकी मे जयनाथ भगत सहित सात लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

मानवता फिर हुई शर्मसार, स्ट्रेचर नहीं मिला तो मरीज को ऐसे पहुंचाया अस्पताल भोजपुर : बिहार के भोजपुर जिले के आरा सदर अस्पताल में मानवीय संवेदना को शर्मसार कर इंसानियत को झकझोर देने वाली एक घटना हुई है. जानकारों की माने तो इस घटना ने बिहार के स्वास्थ्य सुविधाओं पर एक बार फिर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है. बताया जा रहा है कि अस्पताल में एक महिला मरीज को ओपीडी से मेडिकल वार्ड तक घसीटकर ले जाया गया. ऐसा करने से महिला मरीज गंभीर रूप से घायल हो गयी. वहीं, जिन आंखों ने इस दृश्य को देखा वह सकते में आ गये. अस्पताल सूत्रों के मुताबिक जिले के कृष्णागढ़ थाना इलाके के सरैया गांव के रहने वाले अनिल साह की पत्नी शकुंतला देवी का दो-तीन दिनों से सदर अस्पताल आरा में इलाज चल रहा था. वहीं पर वह दौड़कर भागते हुए मेडिकल वार्ड पहुंच गयी. इस दौरान उसकी तबीयत बिगड़ गयी और जमीन पर गिर पड़ी. नहीं मिला स्ट्रेचर प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक महिला मरीज को ले जाने के लिये स्ट्रेचर नहीं मिला, उसके बाद दो लोग उसे घसीटते हुए ओपीडी तक ले गये. अस्पताल में मौजूद लोग खड़े होकर तमाशा देखते रहे, लेकिन किसी ने हस्तक्षेप करने की कोशिश नहीं की. वहीं अस्पताल प्रशासन का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराकर मामले पर कार्रवाई की जायेगी. चिकित्सकों के मुताबिक शकुंतला देवी मिरगी की मरीज थी. सदर अस्पताल की दवा चल रही थी. हाल में उसे दिया जाने वाला इंजेक्शन नहीं दिया गया था. मामले के सामने आने के बाद अस्पताल के उपाधीक्षक ने स्ट्रेचर नहीं मिलने की गलत बताया है. प्रशासन उसके मानसिक रूप से कमजोर होने की बात को सामने रखते हुए कह रहा है कि वह बार-बार ओपीडी से भाग जा रही थी. पहले भी हुई है, इस प्रकार की घटना गौरतलब हो कि इससे पहले छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में ऐसी घटना सामने आयी थी।

Page 1 of 11

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
  • IPL 2017
Post by साकेत सिंह धोनी
- Apr 26, 2017
रवीना टंडन इन दिनों काफी चर्चा में हैं, वजह है उनकी हालिया रिलीज फिल्‍म मातृ द मदर। इस फिल्‍म में वो एक गैंग रेप शिकार ...
Post by साकेत सिंह धोनी
- Apr 25, 2017
यह सच है कि अभी तक कैंसर की कोई कारगर दवा तैयार नहीं हुई है। लेकिन कुछ बातों का हम पहले से ही ख्याल ...
Post by सत्य चरण राय (लक्की)
- Apr 26, 2017
क्या सच में हुआ योग गुरु बाबा रामदेव का एक्सीडेंट ? जानिए इस फोटो की सच्चाईयोग गुरु बाबा रामदेव के एक्सीडेंट की खबर इन ...
Post by साकेत सिंह धोनी
- Apr 24, 2017
कई फेयरनेस क्रीमों में पुरुषों के स्पर्म मिलाया जाता है। लेकिन एक महिला रोजाना तरह-तरह के ड्रिंक्स में पुरुषों का ...
Post by साकेत सिंह धोनी
- Apr 24, 2017
बेहतरीन पारी खेलकर फॉर्म में वापसी करने वाले महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि अगर कोई खिलाड़ी धैर्य बरकरार रखता है तो कोई भी ...
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…