ब्रेकिंग न्यूज़ -----चुनावी आगाज के बीच निर्वाचन आयोग उत्तर प्रदेश में डी जी पी को बदलने की कवायद में जुट गया है । आयोग ने प्रदेश सरकार से डी जी पी और ए डी जी स्तर के तीन नाम मांगे । डीजीपी पद के लिये तीन नाम भेजे गए । डी जी सुलेखान सिंह,डी जी फायर प्रवीण सिंह,रेलवे गोपाल गुप्ता का नाम शामिल ।

Published in Breaking News

BJP के संगीत सोम पर प्रचार में दंगे का फुटेज यूज करने का आरोप, CD जब्त मेरठ के सरधना विधान सभा क्षेत्र से बीजेपी उम्मीदवार संगीत सोम के प्रचार वाहन से विवादित वीडियो क्लिप दिखाए जाने पर प्रशासन ने कार्रवाई की है. वीडियो क्लिप को जब्त कर दो लोगों के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है. कुछ लोगों ने वाहन में लगी एलसीडी पर विवादित वीडियो क्लिप दिखाए जाने की प्रशासन से शिकायत की थी. क्लिप में संगीत सोम के विधायक बनने के बाद राजनीतिक सफर को इस तरह दिखाया गया है कि उनकी हीरो के तौर पर छवि उभरे. क्लिप में धर्म का हवाला देते हुए दंगे की खबरों, विधायक की गिरफ्तारी जैसी घटनाओं को दिखाया गया है. इसे प्रथम दृष्टया आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना गया है. बताया गया है कि प्रचार वाहन यूपी 15 बीटी (टाटा) के जरिए वीडियो क्लिप को दिखाया जा रहा था. वाहन पर सवार व्यक्ति चंद्रशेखर सिंह और ड्राइवर वीरेंद्र सिंह के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है. इन से मीडिया सर्टिफिकेशन मॉनिटरिंग कमेटी का अनुमोदन प्रमाण पत्र मांगा गया जो वो नहीं दिखा पाए. आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन आईपीसी की धारा 188 के तहत दंडनीय अपराध है. चंद्रशेखर सिंह और वीरेंद्र सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जा रही है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी कल उत्तराखंड के ऋषिकेश में थे. यहाँ उन्होंने एक रैली को संबोधित किया और लोगो से कांग्रेस के पक्ष में वोट देने की अपील की. रैली के बाद राहुल गाँधी देहरादून के लिए रवाना हुए. यहाँ उन्होंने एक मूंगफली वाले से मुलाकात की. यही नही राहुल गाँधी ने उससे 50 रूपए की मूंगफली भी खरीदी. इस दौरान राहुल गाँधी काफी अच्छे मूड में दिखे. शिवशंकर ने सपने में नही सोचा होगा की कभी जिन्दगी में उन्हें इतने बड़े आदमी से मिलने का मौका मिलेगा. जिस आदमी से मिलने के लिय लोग नेताओं के चक्कर लगाते है आज वही नेता खुद उनके सामने खड़ा था. शिवशंकर नटराज सिनेमा के सामने मूंगफली और गजक की ठेली लगाते है. यही ठेली शिवशंकर के परिवार का भरण पोषण करती है. शिवशंकर सुबह से शाम तक ग्राहकों का इन्तजार करते है, जिससे वो कुछ कमाई कर सके और अपने परिवार को पाल सके. लेकिन शिवशंकर ने शायद ही सपने में भी सोचा होगा की कांग्रेस उपाध्यक्ष उनका ग्राहक बनकर आएगा. सोमवार को अचानक से एक काले रंग की लग्जरी गाडी शिवशंकर की ठेली के सामने आकर रूकती है. इस गाडी से राहुल गाँधी बाहर निकलते है और शिवशंकर से 50 रूपए की मूंगफली देने के लिए कहते है. शिवशंकर पहले तो अपनी किस्मत पर यकीन नही कर पाते लेकिन जैसे ही मुख्यमंत्री हरीश रावत और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय उससे पूछते है की तुम इनको जानते हो?, तब उनको यकीन होता है की राहुल गाँधी उनके सामने खड़े है. शिवशंकर हरीश रावत के सवाल का जवाब देते हुए कहते है, ‘हाँ जी , सोनिया गाँधी जी के बेटे है’. जब शिवशंकर से इसके बारे में पुछा गया तो उसने कहा की मैं इस पल को जिन्दगी भर नही भूल पाऊंगा. राहुल गाँधी जी ने मुझसे 30 रूपए की मूंगफली और 20 रूपए का गज्जक का पैकेट खरीदा. उन्होंने मुझे इसके लिए 50 रूपए दिए. उन्होंने मुझसे यह भी पुछा की इस बार वोट किसको दोगे. मैंने उनसे कहा की मैं इस पल को कभी नही भूल पाऊंगा.

चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी और चुनाव चिन्ह साइकिल दोनों अखिलेश को दे दी है. अखिलेश की इस बड़ी जीत ने यूपी में कई नए समीकरणों के लिए भी जगह बना दी है. सूत्रों के मुताबिक. खबर मिल रही है कि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन का ऐलान आज या कल हो जाएगा. दोनों ही पार्टियों के बड़े नेताओं ने इस बात के संकेत दे दिए हैं. कहा जाता है राजनीति में एक और एक को जोड़ा जाता है तो वो दो नहीं बल्कि ग्यारह हो जाते हैं. यूपी में कांग्रेस के हाथ को साइकिल का सहारा चाहिए, इसका इशारा कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी कर चुके हैं. इलाहाबाद में पोस्टरों में एक साथ दिख रही हैं डिंपल-प्रियंका इलाहाबाद की दीवारों पर जो पोस्टर लगाए गए हैं उनमें अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव और राहुल की बहन प्रियंका गांधी एक साथ नज़र आ रही हैं. दोनों पार्टियों के बीच अगर खिचड़ी ना पक रही होती तो शायद इलाहाबाद की दीवारों पर पोस्टर ना चिपका होता. लालू यादव को लगता है कि जिस तरह उन्होंने नीतीश कुमार से हाथ मिलाकर बीजेपी को बिहार में मात दी थी. ठीक ऐसा ही कारनामा अखिलेश और राहुल भी यूपी में करेंगे. वैसे एसपी-कांग्रेस में गठबंधन हुआ तो फायदा होगा, ये एबीपी न्यूज़ के ओपिनियन पोल में सामने आ चुका है. इसके मुताबिक अगर अखिलेश कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ते हैं तो उनके गठबंधन को 133 से 143 सीटें मिल सकती हैं. जबकि, अकेले चुनाव लड़ने पर उन्हें सिर्फ 82 से 92 सीटें ही मिलने का अनुमान है. पोल के मुताबिक इस सूरत में बीजेपी को 138 से 148 सीटें मिल सकती हैं.

Published in Uttar Pradesh

लखनऊ. इलेक्शन कमीशन ने समाजवादी पार्टी के सिंबल साइकिल के विवाद पर सोमवार को अखिलेश यादव के पक्ष में फैसला सुनाया। अखिलेश को साइकिल और समाजवादी पार्टी, दोनों मिल गई। इस फैसले के बाद DainikBhaskar.com ने CSDS से जुड़े पॉलिटिकल साइंस के प्रोफेसर एके वर्मा, सीनियर जर्नलिस्ट प्रदीप कपूर, योगेश श्रीवास्तव और श्रीधर अग्निहोत्री से बात कर जाना कि किन स्थितियों में मुलायम-अखिलेश नुकसान में रह सकते हैं। 5 प्वाइंट में समझें... 1. इस कदम से अपनी इमेज को नुकसान पहुंचाएंगे मुलायम - मुलायम के पास दूसरा रास्ता ये है कि वह नए सिंबल पर चुनाव में उतरें। हालांकि, वे खुद चुनाव लड़ने जैसा खतरनाक कदम नहीं उठाएंगे। शिवपाल गुट के नेताओं को लेकर वे चुनाव में जा सकते हैं। - हालांकि, इससे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं होगा, क्योंकि यूपी में मुलायम की पकड़ वाले 10 जिले हैं। इसमें इटावा, मैनपुरी, एटा, कासगंज, बदायूं, कन्नौज, औरैया, फिरोजाबाद, फर्रुखाबाद और आजमगढ़ जैसे जिले शामिल हैं। 2012 में सपा ने इन 10 जिलों की 42 सीटों में से 36 सीटें जीती थीं। - इस समय अखिलेश का ग्राफ बढ़ा है। ऐसे में, इन सीटों पर मुलायम सिंह ज्यादा से ज्यादा 8 से 10 सीट जीत सकते हैं। वहीं, बाकी सीटें अखिलेश के ही खाते में जाएंगी। - अगर मुलायम लोकदल के सिंबल पर चुनाव में जाते हैं तो भी उनके नाम पर ज्यादा से ज्यादा 3 से 5 सीटें मिल सकती हैं। - दरअसल, लोकदल कभी वेस्‍ट यूपी की प्रभावी पार्टी थी, लेकिन अब अजीत सिंह की रालोद के आगे उसका दबदबा खत्म हो गया है। 2. यादव वोट आ सकता है अखिलेश के साथ, मुस्लिम वोटों पर रहेगी नजर - प्रदेश में 8 से 10 फीसदी यादव वोट है, जो अब अखिलेश यादव के साथ आ सकता है। - दरअसल, 2012 में सपा को 66 फीसदी यादव वोट मिला था, इसलिए अभी भी ये कयास लगाए जा रहे हैं कि टकराव खत्म होने के बाद ये वोट फिर से सपा के पास आएगा। - इसी तरह प्रदेश में लगभग 19 फीसदी मुस्लिम वोटर्स हैं, जो अब तक कशमकश की स्थिति में थे। 2012 में सपा को सबसे ज्यादा 39 फीसदी मुस्लिम वोट मिले थे। हालांकि, सोमवार को ही मुलायम सिंह ने कहा कि अखिलेश ने जो किया, उससे मुस्लिमों के बीच पार्टी की छवि खराब हुई। 3. कांग्रेस-आरएलडी से गठबंधन नहीं किया तो अखिलेश को नुकसान - वेस्‍ट यूपी में सपा कमजोर है, लेकिन कांग्रेस और आरएलडी से गठबंधन होने के बाद सपा यहां मजबूत हो सकती है। दरअसल, यहां 24 सीट सपा के पास है, जबकि अन्य दलों के पास 49 सीटें हैं। इसमें से कांग्रेस के पास 5, जबकि रालोद के पास 7 सीट है। - ऐसे में, तीनों के साथ आने से अखिलेश को फायदा मिल सकता है। अगर गठबंधन नहीं हुआ तो अखिलेश नुकसान में रह सकते हैं। 4. इस तरह बनी रह सकती है मुलायम की इमेज - एक्सपर्ट्स का कहना है कि इलेक्शन कमीशन के इस फैसले के बाद मुलायम को अपने 6 दशक के पॉलिटिकल करियर में सबसे बड़ा झटका लगा है। - उनके पास एक रास्ता है कि अब वे अपने समर्थकों से कहें कि वे बूढ़े हो गए हैं। पार्टी और सिंबल अखिलेश को मिल गया है। - ऐसे में समर्थक अखिलेश को सपोर्ट करें, ताकि पार्टी भारी बहुमत से जीतकर सत्ता में वापस आए। - ये हो सकता है कि अब मुलायम खुद को पार्टी के मार्गदर्शक मंडल दल का अध्यक्ष मानकर अखिलेश के साथ चुनाव में जाएं। 5. अखिलेश को किस तरह फायदा मिल सकता है - अखिलेश को सबसे बड़ा फायदा ये मिलेगा कि सपा का जो परंपरागत वोटर है, उसका कन्फ्यूजन खत्म हो गया है। ऐसे में, वह साइकिल के सिंबल को ही देखकर वोट करेगा। - अखिलेश सरकार की 5 साल की जो नाकामियां हैं, अब उसका ठीकरा सीएम पार्टी के अंदर अपने विरोधियों पर फोड़ेंगे, जबकि विकास का सेहरा अपने सिर बांधेंगे। - जिस तरह से कभी मुलायम धरतीपुत्र बनकर उभरे थे, उसी तरह अखिलेश की इमेज भी एक मजबूत लीडर के रूप में उभरकर सामने आई है। - अखिलेश के कार्यकाल में उन पर साढ़े चार सीएम का आरोप लगता रहा है। विवाद के बाद वह उस इमेज से बाहर आ गए हैं। साभार : भास्कर

Published in Public Opinion
Page 1 of 16

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by Source
- Jan 18, 2017
जेएनयू में देशद्रोही नारों के समर्थन में रही बंगाल की ये अभिनेत्री आजकल शूर्खियो में हैं मगर इस बार ये अपने हॉट फोटोशूट ...
Post by Source
- Jan 18, 2017
चावल के साथ आपने मसूर से चना और भी कई वेराइटी की दाल खाई होगी. प्रोटीन से भरी दाल आपके हेल्थ के लिए ...
Post by Source
- Jan 20, 2017
पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया और वॉट्सऐप ग्रुप्स पर एक लड़की के डांस वीडियो काफी शेयर किया जा रहा है। वीडियो में एक ...
Post by Source
- Dec 23, 2016
कामेच्छा यदि किसी भी व्यक्ति में सामान्य लेवल से कम होती है तो जीवन में उसके लिए कई परेशानियां पैदा हो जाती हैं। ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…