पूर्व मेयर की गाड़ी पर बदमाशों ने चलाई एके-47 से गोली* धनवाद। सरायढ़ेला थाना क्षेत्र स्थित स्टील गेट के पास मंगलवार की शाम पूर्व डिप्टी मेयर और वर्तमान डिप्टी मेयर के बड़े भाई नीरज सिंह पर जानलेवा हमला हुआ। नीरज सिंह पर एके –47 से गोलियां चलाई गईं। नीरज सिंह समेत उनकी गाड़ी में सवार तीन लोगों की मौत हॉस्पिटल में हो गई। मौत को एडीजी आरके मल्लिक ने पुष्टि की है। सिटी एसपी के साथ धक्का-मुक्की की सूचना है। मालूम हो कि नीरज सिंह बलिया के पूर्व विधायक विक्रमा सिंह तथा पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रामधीर सिंह के भाई स्व. राजन सिंह के पुत्र थे। बताया जाता है कि नीरज की गाड़ी पर गोलियां के कई निशान मिले हैं। यह घटना उनके घर से कुछ ही दूरी पर हुई। पूर्व डिप्टी मेयर समेत सभी को सेंट्रल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। हॉस्पिटल के बाहर नीरज सिंह के कई हथियारबंद समर्थक डटे रहे। नीरज सिंह अपने आवास रघुकुल जा रहे थे। इसी समय पहले से घात लगाए अपराधियों ने इनकी गाड़ी पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं। इनके आवास से पहले रास्ते में सड़क पर 15 ब्रेकर हैं, जिसका अपराधियों ने फायदा उठाया। गाड़ी की रफ्तार कम होते ही अपराधियों ने हमला कर दिया। मौके पर से पुलिस ने 50 खोखे बरामद किए हैं। नीरज सिंह के बॉडीगार्ड, ड्राइवर और साथी अशोक यादव की भी मौत हो गई है।

तो गायत्री प्रजापति पहुंच ही गए जेल। तो अब मोदी के वायदे के अनुसार यूपी में होने लगा है शासन। 15 मार्च को सुबह-सुबह ही यूपी के पुलिस महानिदेशक जावेद ने टीवी चैनलों पर कहा कि गैंगरेप के आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को लखनऊ स्थित आवास से गिरफ्तार कर लिया है। दोपहर होते-होते प्रजापति को अदालत में पेश करने के बाद 14 दिनों के लिए जेल भेज दिया गया। यह वही यूपी पुलिस है, जिसे 27 फरवरी के बाद से ही प्रजापति नहीं मिले थे। हालांकि अभी यूपी में भाजपा की सरकार ने शासन नहीं संभाला है, लेकिन चुनाव के दौरान पीएम नरेन्द्र मोदी ने सुशासन का जो वायदा किया था, उसका असर अब होने लगा है। यूपी के डीजी जावेद भले ही गायत्री प्रजापति की गिरफ्तारी का दावा करंे, लेकिन हकीकत यह है कि 14 मार्च को जब पुलिस ने प्रजापति के बेटे अनुराग और भतीजे सुरेन्द्र को थाने बुलाकर पूछताछ की तो प्रजापति ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। भले ही पुलिस ने कागजों में 15 मार्च की सुबह गिरफ्तारी दिखाई हो। अब यह बात भी सामने आ गई है कि पूर्व सीएम अखिलेख यादव के दबाव की वजह से ही पुलिस प्रजापति को गिरफ्तार नहीं कर रही थी। चूंकि अब यूपी पुलिस को यह पता है कि अगले दो-तीन दिन में भाजपा की सरकार बन जाएगी, इसलिए पुलिस ने अभी से ही पीएम मोदी के वायदे के अनुरूप काम करना शुरू कर दिया है। इस पूरे मामले में पीडि़ता का बयान बेहद गंभीर है। पीडि़ता का कहना है कि प्रजापति और उसके साथियों द्वारा बलात्कार किए जाने तक को वह बर्दाश्त कर रही थी, लेकिन जब इन बलात्कारियों ने मेरी 14 साल की नाबालिग बेटी पर बुरी निगाह डाली तो मुझे मजबूरन पुलिस के पास जाना पड़ा। मैं नहीं चाहती थी कि मेरी बेटी भी इन दरिंदों की हवस का शिकार बने। सब जानते हैं कि अखिलेश के शासन में पीडि़ता की रिपोर्ट तक दर्ज नहीं हुई और जब सुप्रीम कोर्ट के आदेश से रिपोर्ट दर्ज करनी पड़ी तो प्रजापति को गिरफ्तार नहीं किया गया। यदि यूपी में भाजपा की सरकार नहीं बनती तो प्रजापति की गिरफ्तारी भी नहीं होती। एस.पी.मित्तल) (15-03-17)

Published in Public Opinion

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) में अब छात्र-छात्राओं को डिग्री व डुप्लीकेटमार्कशीट के लिए विश्वविद्यालय के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। विश्वविद्यालय उन्हें इनके लिए ऑनलाइन सुविधा देगा। इसके तहत छात्र-छात्राएं घर बैठे ही डुप्लीकेट मार्कशीट, डुप्लीकेट डिग्री, माइग्रेशन, पीडीसी और ट्रांसक्रिप्ट ले सकेंगे। फिलहाल एक महीने में यह सुविधा शुरू करने की तैयारी है।विश्वविद्यालय के आईटी विभाग के जिम्मेदारी संभाल रहे देवव्रत उपाध्याय ने बताया कि एकेटीयू जल्द ही ऑनलाइन पोर्टल स्टूडेंट्स सर्विस डैशबोर्ड की शुरुआत करेगा। इसी के जरिए छात्र यह सभी सुविधाओं का लाभ घर बैठे ले सकेंगे। इसके लिए एकेटीयू की वेबसाइट पर स्टूडेंट्स सर्विस डैश बोर्ड दिया जाएगा। जहां छात्र अपनी आवश्यकता के संबंध में सूचना अपलोड करेंगे। इसमें ऑनलाइन फीस जमा करने की सुविधा दी जाएगी। जिसके बाद छात्र जो भी पता उसमें दर्ज करेंगे, उसी पर स्पीडपोस्ट के माध्यम से डुप्लीकेट मार्कशीट, डिग्री, माइग्रेशन सहित अन्यचीजें पहुंचाई जाएंगी। छात्रों को इसीसूचना स्पीड पोस्ट से भेजी जाएगी। इस व्यवस्था के शुरु होने से एकेटीयू में पढ़ने वाले और पढ़कर निकल चुके लाखों छात्रों को इसका लाभ मिलेगा। तस्वीरें काल्पनिक

Published in Uttar Pradesh

अक्सर लोग रात में हेडलाइट जलाकर छोड़ देते हैं और दिनभर उनकी गाड़ी का हेडलाइट जलता रहता है, जब तक की कोई इशारा करके बता नहीं देता, लेकिन अब इसकी परवाह करने की भी कोई जरूरत नहीं रहेगी। अब ऐसी बाइक आ रही है जिसमें आपको अपनी हेडलाइट को ऑन-ऑफ करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। हेडलाइट ऑन ऑफ स्विच की जगह अब सभी दोपहिया वाहनों को ऑटोमेटिक हेडलाइट ऑन सिस्टम(AHO) से लैस कर दिया जाएगा।  आप चाहकर भी हेडलाइट को बंद नहीं कर पाएंगे। केन्द्र ने दिए आदेश, 1 अप्रैल से होंगे लागू वाहन निर्माता कंपनियों ने अपने सभी मॉडल से हेडलाइट के ऑन ऑफ का सिस्टम ही खत्म कर दिया है। 2017 के जो मॉडल बाजार में आएंगे, उनमें हेड लाइट ऑन ऑफ का स्विच ही नहीं होगा। उन वाहनों में AHO सिस्टम लगा रहेगा। दरअसल, केन्द्र सरकार ने आने 1 अप्रैल से दिन में भी दोपहिये वाहनों का हेडलाइट जलाना अनिवार्य कर दिया है। केन्द्रीय परिवहन विभाग ने इस बात का निर्देश दिया है कि 1 अप्रैल से बेचे जाने वाले वाहनों में AHO अनिवार्य होगा वरना ऐसे वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया जाएगा। ऐसे में अगर अब आपके आसपास से कोई मोटरसाइकिल गुजरे और उसकी लाइट जल रही हो तो उसको हाथ दिखाकर लाइट बंद करने का इशारा मत करना।  क्योंकि अब हेडलाइट बंद करने का विकल्प उसके पास भी नहीं है। बहुत से राइडर जानकारी न होने के अभाव में अपनी मोटरसाइकिल सर्विस सेंटर लेकर भी पहुंच रहे हैं। लेकिन डरिए मत हेडलाइट ऑन रहने से बाइक का कोई नुकसान नहीं होने वाला।  क्यों है ये जरूरी  देश में हर साल हजारों मोटरसाइकिल राइडर सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान गंवाते हैं। एक रिपोर्ट में पाया गया है कि जिन देशों में यह नियम लागू है वहां पर दुपहिया वाहनों का एक्सीडेंट हमारे देश की तुलना में बेहद कम होता है। हेडलाइट जली रहने से राइडर की प्रजेंस रोड पर पूरी तरह से रहती है और सामने से आने वाले वाहनों को भी ऐसी मोटरसाइकिल दूर से ही नजर आ जाती हैं। यह एक बेहद जरूरी सुरक्षा फीचर है और इससे सड़क मोटरसाइकिल दुर्घटनाओं में शर्तियातौर पर कमी आएगी।  BS-4 मॉडल उतारेंगी कंपनियां 1 अप्रैल 2017 से पहले कंपनी अपने सभी उत्पादों को बीएस 4 के अनुकूल बना देगा।  इन सभी मोटरसाइकिलों में है एएचओ इस फैसले के बाद दोपहिये वाहन बनाने वाली कंपनियां इसके अनुरुप गाड़ियां(BS-4 मॉडल के वाहन) बाजार में उतारने की तैयारी कर रही हैं। इस तरह की मोटरसाइकिल में ऑन-आफ स्विच नही होगा। गाड़ी के इंजन स्टार्ट होने के साथ ही हेडलाइट जल जाएगा। मौजूदा समय की बात करें तो आपको सीबी शाइन 125 के साथ हीरो पैसन प्रो आई35, यामाहा एफजेड 25, हीरो एचीवर 150, पल्सर एनएस 200, हीरो ग्लैमर 125 व डोमिनार जैसी मोटरसाइकिलों में यह फीचर दिया गया है।  ऑटो हेडलैंप ऑन में लाइट बंद करने का कोई स्विच नहीं दिया जाता यह इंजिन से कनेक्ट रहता है और जैसे ही इंजिन स्‍टार्ट होगा बाइक की लाइट अपने आप जलने लगेगी।  NDN

कानून की धज्जियां उड़ाते कानून के रखवाले। कैसे कराएंगे लोगों से कानून की रखवाली जब रखवाले ही उड़ा रहे कानून की धज्जियां। देखिए अलग-अलग दृश्य में किस प्रकार पुलिसकर्मी कानून का मखौल उड़ा रहे हैं जो नीचे शराब ले जा रहा व्यक्ति है वह है नौसर चौकी गोरखपुर का दृश्य जिसमे हवलदार हाथ में शराब की बोतल और पानी लेकर चौकी की तरह बढ़ रहा है दृश्य में यह भी दिख रहा है कि दुकानदार के पास कुछ सिपाही मौजूद होकर शराब खरीद रहे हैं यह दृश्य हमारे गोरखपुर टाइम्स के दर्शक द्वारा भेजा गया है...

Published in Gorakhpur
Page 1 of 5

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by श्वेताभ रंजन राय
- Mar 26, 2017
जिस दिन कपिल शर्मा ने दुनिया के सामने अपने प्यार का इजहार किया उसी दिन दुनिया ने कपिल का वह अहंकारी रूप भी देखा। जिसे ...
Post by Source
- Mar 26, 2017
अक्सर गृहणियों की आदात होती है कि वह आटा बच जाने पर उसे फ्रिज में रख देती है ताकि बाद में उपयोग कर ...
Post by श्वेताभ रंजन राय
- Mar 26, 2017
अनुशासन हीनता के आरोप में निलंबित हुए आईपीएस अफसर हिमांशु कुमार की पत्नी ने भी उनपर गंभीर आरोप लगाए हैं। हिमांशु कुमार ...
Post by Source
- Mar 26, 2017
पुरूष-महिला के रिश्ते के दौरान संभोग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका आनंद हर कोई उठाना चाहता है। लेकिन इससे होने वाले दर्द की ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…