वाराणसी के मिर्जामुराद बाजार में पेन से लिखा हुआ एक पत्र मिला है जिस पर लिखा था कि 24 तारीख को हम पूर्वांचल में तबाही करेंगे रोक सको तो रोक लो आई एस आई 786 पाकिस्तान जिंदाबाद पत्र को संज्ञान में लेते हुए ग्रामीण पुलिस अधीक्षक वाराणसी ने मिर्जामुराद थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की प्रक्रिया शुरू कर दिए. रविंद्र गिरी वाराणसी

Published in Breaking News

वाराणसी पूर्वांचल में विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया का श्रीगणेश अभी नहीं हुआ है लेकिन बीजेपी के भीतर बगावत की पताका बनारस से लेकर गोरखपुर तक फहरा रही है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य से लेकर प्रदेश प्रभारी ओमप्रकाश माथुर खुद असंसदीय शब्दों की मार झेलकर इसके गवाह बन चुके हैं। पार्टी के भीतर टिकट की घोषणा के साथ पनपा असंतोष तरह-तरह के विरोध-प्रदर्शन के जरिए निकल रहा है। पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में टिकट वितरण को लेकर उपजे आक्रोश को थामना बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है। बनारस में शहरदक्षिणी से 7 बार बीजेपी विधायक रहे श्यामदेव राय चौधरी दादा की जगह युवा तुर्क नेता नीलकंठ तिवारी को टिकट देने के साथ भड़की असंतोष की आग भले ही थमने लगी है लेकिन कैंट और शहर उत्तरी सीट पर भी अब बगावत के बोल सुनाई देने लगे हैं। पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेताओं में शुमार दादा के गुस्से को भले ही आगे चलकर बड़ा सम्मान देने का आश्वासन देकर थामने का प्रयास किया गया लेकिन अब शहर उत्तरी को लेकर बीजेपी विधायक रविंद्र जायसवाल के खिलाफ एक दशक से ज्यादा पुराने कार्यकर्ता सुजीत सिंह टीका ने खुली बगावत कर दी है। सोमवार को मीडिया से मुखातिब सुजीत ने कहा कि यदि पार्टी ने 7 फरवरी तक उनको उत्तरी से उम्मीदवार नहीं घोषित किया तो 15 फरवरी को निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन करेंगे। कैंट विधानसभा क्षेत्र से हरिश्चंद्र श्रीवास्तव उनके निधन के बाद डॉ. ज्योत्सना श्रीवास्तव अब उनकी उम्र होने के बाद अब उनके बेटे सौरभ श्रीवास्तव को जो टिकट थमाया उसको लेकर आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। इस सीट को लेकर बीजेपी के पार्षद बगावत पर उतरने के साथ प्रदेशअध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी पत्र भेज कर प्रत्याशी बदलने की पुरजोर मांग की है। बनारस की तरह बलिया में भी बीजेपी के भीतर बगावत बांसडीह विधानसभा क्षेत्र में रविवार को आयोजित महापंचायत में दिखाई दी। बांसडीह के मैरिटार गांव में बीजेपी के भारतीय समाज पार्टी को गठबंधन के तहत यह सीट देने पर आक्रोशित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने महापंचायत करके केतकी सिंह को टिकट देने की मांग की। बागी बलिया में बीजेपी कार्यकर्ताओं के इस आक्रोश की सूचना मिलने पर सलेमपुर के सांसद रविंद्र कुशवाहा भी पहुंचे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से दो दिन का समय मांगते हुए कहा पार्टी नेतृत्व का निर्णय इस सीट पर जल्द आयेगा। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के गृहजनपद चंदौली में चकिया सीट से बीएसपी छोड़कर आए पूर्व मंत्री शारदा प्रसाद को टिकट मिलने से राम अधार जोसेफ गुट बगावत की पताका से लेकर पार्टी बड़े नेताओं का पुतला जलाने का काम कर रहे हैं। बस्ती जिले में टिकट अपने चहेतो को दिलाने के लिए जहां बीजेपी सांसद हरीश दुबे को 2000 के नोट पर बेवफा लिखकर प्रचारित करने के साथ आक्रोशित कार्यकर्ता सिर मुड़ाने का काम कर रहे हैं, वहीं देवरिया में जनसंघ के जमाने से जुड़े दुर्गा प्रसाद मिश्र के बेटे को टिकट के लिए अनफिट घोषित करके बीएसपी के पूर्व विधायक सुरेश तिवारी को प्रत्याशी बनाने से भी आक्रोश थम नहीं रहा है। दुर्गाबाबा के नाम पूर्वांचल में मशहूर इस परिवार की उपेक्षा भी कार्यकर्ताओं में असंतोष की आग जलाकर रखी है। पुराने संघी इस परिवार ने भी बगावत का पताका उठाने के साथ देवरिया की सात सीट के साथ पूर्वांचल की 30 विस सीटों पर प्रत्याशी उतारने का फैसला किया है। पूर्वांचल में टिकट वितरण को लेकर फहर रही बगावत की पताका बीजेपी के यूपी में विजयरथ को कितना नुकसान पहुंचाएगा,यह आने वाले समय बताएगा।

दूरसंचार ऑपरेटर वोडाफोन ने आज सुपरऑवर योजना की घोषणा की। इसके तहत उपभोक्ताओं को 16 रुपये शुरआती मूल्य पर एक घंटे तक असीमित 3जी या 4जी डेटा मिलेगा. इसके अलावा वोडाफोन के नेटवर्क में ही 7 रुपये में असीमित वॉयस कॉल की पेशकश भी की गई है. इसकी वैधता एक घंटे होगी. वोडाफोन इंडिया के मुख्य वाणिज्यिक अधिकारी संदीप कटारिया ने कहा, ''सुपरऑवर के तहत आप एक घंटे तक निश्चित मूल्य पर कितना भी डेटा इस्तेमाल या डाउनलोड कर सकते हैं.'' इसके अलावा ग्राहक वोडाफोन से वोडाफोन पर एक घंटे तक असीमित कॉल के लिए सात रुपये का पैक ले सकते हैं.

Published in National

विधानसभा चुनाव से पहले बसपा खेमे में एक और बढ़ोतरी हुई है. आपको बता दें कि बसपा में इसबार एक बाहुबली नेता शामिल हुए हैं. जिनके आने पर यूपी के पूर्वांचल सीट पर नेताओं की हलचल बढ़ गई है. बाहुबली नेता के नाम से मशहूर इस शख्स का नाम राजन तिवारी हैं, जो बिहार से विधायक भी रह चुके हैं. जानकारों के मुताबिक उन्होंने बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर के सहजनवां में आयोजित एक कार्यक्रम में बसपा की सदस्यता ग्रहण की. पार्टी के मुख्य जोनल कोऑर्डिनेटर और विधान परिषद सदस्य दिनेश चंद्रा ने उन्हें बसपा की सदस्यता दिलाई. कहा जा रहा है कि राजन के एक बड़ा ब्राह्मण चेहरा होने के कारण बसपा में शामिल होने के बाद से पार्टी मुखिया को पूर्वांचल में काफी मजबूती मिलेगी. शायद यही वजह रही भी है कि बसपा ने उन्हें पूर्वांचल में सर्व समाज उनमे भी खास करके ब्राह्मणों को पार्टी से जोड़ने की जिम्मेदारी दी हैं. बताया जा रहा है कि राजन तिवारी के बसपा ज्वाइन करती ही पूर्वी यूपी की राजनीति गर्माने लगी है. इसके आलावा आपको यह भी बता दें कि बसपा के कुछ नेताओं का यह भी कहना है कि पार्टी राजन को प्रदेश के कुशीनगर या देवरिया विधानसभा सीट में किसी एक पर चुनाव लड़ने के लिए टिकट भी दे सकती हैं. दो बार विधायक रह चुके राजन तिवारी के बारे में यह भी कहा जाता है कि 90 के दशक में चर्चित माफिया श्रीप्रकाश शुक्ला के साथ भी इनका नाम भी जुड़ा था. सूत्रों का यह भी कहना है कि सहजनवां में बसपा के विधायक जीएम सिंह ने उन्हें पार्टी में शामिल कराने में काफी सहयोग दिया है. Criminal Gorakhpur Purvanchal UP BSP Mayawati Election 2017 BJP Trending Education Promotion Advertisement Digital Media News

Published in Gorakhpur

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by Source
- Mar 28, 2017
मुंबई। कई दिनों से सुनील ग्रोवर और कपिल शर्मा की लड़ाई सुर्ख़ियों में है। बात यहां तक पहुंच गयी कि लगा कपिल शर्मा का शो ...
Post by Source
- Mar 28, 2017
अगर आप चमकीले और साफ-सुथरे दिखने वाले फल खरीद रहे हैं तो चौकन्ने हो जाएं। ये फल शरीर को ताकत देने ...
Post by Source
- Mar 28, 2017
एटीएम का इस्‍तेमाल हम सभी करते हैं। जब भी पैसे निकालने की जरूरत पड़ी, एटीएम गए और पैसे निकाल लिए। यह कितना आसान है। ...
Post by Source
- Mar 26, 2017
पुरूष-महिला के रिश्ते के दौरान संभोग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका आनंद हर कोई उठाना चाहता है। लेकिन इससे होने वाले दर्द की ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…