ब्रेकिग खबर तमकुही विधान सभा में अब नही होगी अनॆतिक कार्य : बाल्टी बाबा तमकुही के भाजपा प्रत्याशी रहे जगदीश मिश्र उर्फ़ बाल्टी बाबा ने कहा है की प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के साथ पुरे प्रदेश में शुसासन कायम होगा जो लोग गलत कार्य पूर्व में कर रहे थे वे अब संभल जाय अब प्रदेश में कानून का राज होगा बाल्टी बाबा ने उच्चाधिकारियो से कहा है की जनहित के कार्य में लापरवाही न हो सबको उचित न्याय मिले अवेध वसूली पर रोक लगे अब स्टेंड के नाम पर किसी को वसूली करने की छुट नही मिलेगी गुंडई करने वाले जेल जायेगे उन्होंने कहा की तमकुही में टेक्सी स्टेंड के नाम पर कुछ लोग गलत ढंग से अवेध वसूली करते है अब इस पर बिराम लगेगा

Published in Gorakhpur

*मुख्यमंत्री बनने के लिये भाजपाइयों मे जोड़-तोड़ शुरू* ----------------------------------------------- *लखनऊ । उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के लिए इस समय भाजपा के एक दर्जन से अधिक नेता प्रयासरत हैंभाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से जिनके भी मधुर रिश्ते हैं उनके माध्यम से अपना नाम उन तक पहुंचा रहे हैं। इसके साथ ही अधिक से अधिक विधायकों को अपने पक्ष मे करने और उन्हे लालच देने का भी खेल हो रहा है। इसकी वजह से इस समय सभी विधायकों की पूछ – परख बढ़ गई है। यदि कुछ को छोड़ दें, तो हर विधायक हर किसी को आश्वासन दे रहा है। अभी तक जिन नेताओं के नाम मुख्यमंत्री के रूप मे चर्चा मे हैं* *उनमें केशव मौर्य, राजनाथ सिंह, मनोज सिन्हा, सतीश महाना, श्रीकांत शर्मा, दिनेश शर्मा, महेश शर्मा, स्मृति ईरानी, सिद्धार्थ सिंह हैं। अभी दो दिनों तक जोड़-तोड़ चलेंगे जल्द ही किसी एक के नाम पर मोहर लग सकती है*।

Published in Uttar Pradesh

SC ने गोवा में 16 मार्च को बहुमत परीक्षण कराने का आदेश दिया, पर्रिकर के शपथ ग्रहण पर रोक नहीं मनोहर पर्रिकर आज शाम गोवा के मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं, लेकिन कांग्रेस इसके विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है. गोवा में बन रही बीजेपी सरकार के खिलाफ उसने याचिका दाखिल की है जिस पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है. सुप्रीम कोर्ट ने अब राज्य में 16 मार्च को बहुमत परिक्षण कराने का आदेश दिया है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने अभी तक मनोहर पर्रिकर के शपथ ग्रहण पर कोई रोक नहीं लगाई है. पर्रिकर का शपथ ग्रहण आज शाम 5 बजे ही होगा. सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी कांग्रेस का पक्ष रख रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट ने सिंघवी की उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि पहले राज्य में बहुमत परीक्षण कराया जाए और उसके बाद मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सरकार को 16 मार्ट को विधानसभा सत्र के पहले दिन बहुमत साबित करना होगा. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस से कई अहम सवाल पूछे हैं. जस्टिस जेएस खेहर ने पूछा है कि अगर कांग्रेस के पास संख्या है तो वह राज्यपाल के पास क्यों नहीं गए ? कांग्रेस की याचिका पर चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने वकील अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा कि क्या आपने समर्थक विधायकों की लिस्ट राज्यपाल को सौंपी थी ? सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस से पूछा कि क्या आपके पास नंबर हैं, आप ये कैसे कह सकते है कि पर्रिकर ने खरीद फरोख्त के जरिए बहुमत हासिल किया. कांग्रेस की याचिका पर चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने वकील अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा कि क्या आपने समर्थक विधायकों की लिस्ट राज्यपाल को सौंपी थी. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी पूछा है कि क्या कांग्रेस ने बीजेपी से पहले राज्यपाल को सरकार बनाने का देवा पेश किया था ? बीजेपी ने की लोकतंत्र की हत्या- कांग्रेस वहीं, कांग्रेस के गोवा प्रभारी दिग्विजय सिंह का कहना है कि वो राज्यपाल से न्योते के लिए इंतजार करते रहे और बीजेपी ने दावा पेश कर दिया. वहीं इस मुद्दे पर विपक्ष ने लोकसभा से वॉकआउट किया. कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि बीजेपी ने लोकतंत्र की हत्या की है. इस पर केंद्रीय मंत्री अऩंत कुमार ने कहा है कि पहले भी ऐसा हुआ है कि राज्यपाल ने बहुमत के लिए जरूरी आंकड़े जुटाने वाली पार्टी को सरकार बनाने का न्योता दिया है. वरिष्ठ वकील के टी एस तुलसी का कहना है कि कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है इसलिए उसी को सरकार बनाने के लिए बुलाना चाहिए था. ‘’सरकार बनाने का पहला हक कांग्रेस का’’ कांग्रेस की दलील है कि गोवा में वो सबसे बड़ी पार्टी है, इसलिए सरकार बनाने का पहला हक उसका है. पार्टी का कहना है, ‘’कांग्रसे पार्टी को बुलाए बिना, कांग्रेस पार्टी को मौका दिए बिना मनोहर पर्रिकर को सीधा मुख्यमंत्री बनाना बहुत गलत बात है और ये जो असंवैधानिक चीज हुई है उसे हमने सुप्रिम कोट मे चैलेंज किया है राम अधार द्विवेदी

Published in Breaking News

मणिपुर में भी भाजपा के पास हुआ बहुमत का आंकड़ा, कांग्रेस में पड़ी फूट तो ममता बनर्जी के विधायक ने भी दिया सपोर्ट नई दिल्ली, 14 मार्च । मणिपुर में भी भाजपा सरकार बनाने की तैयारी में हैं। चुनाव नतीजों में हालांकि उसे केवल 21 सीटें ही मिली थी लेकिन दूसरी पार्टियों और अन्‍यों के साथ मिलकर उसने सरकार बनाने की दावेदारी पेश की है। मणिपुर विधानसभा में 60 सीटें हैं और सरकार बनाने के लिए 31 विधायकों की जरुरत है। भाजपा को कांग्रेस विधायकों का भी साथ मिल रहा है। कांग्रेस के एक विधायक श्‍याम कुमार ने रविवार (12 मार्च) की देर शाम को मणिपुर राजभवन में पत्रकारों के सामने कहा कि वे भाजपा में शामिल होना चाहते हैं। भाजपा ने अपने विधायकों के साथ राज्‍यपाल नजमा हेपतुल्‍ला से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। भाजपा ने अपने 21 विधायकों के साथ ही नेशनल पीपल्‍स पार्टी के चार और लोकजनशक्ति पार्टी के एक विधायक का समर्थन पत्र भी राज्‍यपाल को दिखाया। उनकी ओर से कहना है कि नागा पीपल्‍स फ्रंट के चार विधायकों का भी उन्‍हें समर्थन है। इसके बाद तृणमूल कांग्रेस के एकमात्र विधायक पोंगब्राम रोबिंद्रो ने भी राज भवन पहुंचकर भाजपा को समर्थन देने का एलान कर दिया। इससे भाजपा की संख्‍या 31 हो गई। वहीं कांग्रेस की ओर से मुख्‍यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाई और कहा कि उन्‍होंने राज्‍यपाल नजमा हेपतुल्‍ला से मुलाकात की। उन्‍होंने कांग्रेस को सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने के लिए बुलाने को कहा है। कांग्रेस के 28 विधायक जीते हैं लेकिन श्‍याम कुमार के भाजपा के साथ जाने से यह आंकड़ा 27 रह गया है। भाजपा के महासचिव राम माधव इंफाल में ही हैं और चुनावों के दौरान प्रचार में ही वे ही डटे हुए थे। उन्‍होंने एनपीपी के विधायकों और प्रदेशाध्‍यक्ष कोनराड संगमा और एलजेपी के विधायक के श्‍याम के साथ प्रेस कांफ्रेंस अपनी उन्‍होंने कहा कि सोमवार तक भाजपा अपने सीएम उम्‍मीदवार का ऐलान कर देगी। उन्‍होंने कहा, "पिछले 24 घंटों में भाजपा और गैर कांग्रेसी पार्टियों के बीच काफी चर्चा हुई है। भाजपा और एनपीपी, एलजेपी व एनपीएफ के बीच सह‍मति बन गई है।" एनपीपी के संगमा ने कहा कि मणिपुर की जनता ने बदलाव के लिए वोट किया है। केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में मणिपुर में बदलाव देखने को मिलेगा। वहीं एलजेपी के के श्‍याम ने कहा कि उनका लक्ष्‍य कांग्रेस शासन को समाप्‍त करना है। मणिपुर भाजपा के प्रभारी प्रहलाद पटेल ने कहा कि कांग्रेस विधायक पर तब तक दल-बदल कानून लागू नहीं होगा जब तक कि वे विधानसभा में वोट नहीं करते हैं। वोट देने के बाद भी अगर उन्‍हें चुनौती नहीं दी जाती है तो वे अयोग्‍य नहीं होगे।

मुख्यमंत्री का नाम सुझाने के लिए बेकैया नायडू और भूपेन्द्र यादव आएंगे लखनऊ* *नई दिल्ली, भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री चुनने के लिए वेंकैया नायडू और भूपेंद्र यादव को अधिकृत किया है। ये दोनों पर्यवेक्षक होली के बाद लखनऊ आएंगे । यहाँ के विधायकों से इस संबंध मे बातचीत करेंगे। इसके अतिरिक्त यहा ने संगठन और कार्यकर्ताओं की भी राय भी जानेंगे। आर एस एस के सदस्यों से भी सीएम पद के उम्मीदवार के संबंध मे राय लेंगे। इसके बाद यह रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को सौपेंगे। उस रिपोर्ट के आधार पर मोदी से से चर्चा करके मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा करेंगे* मिंटू शर्मा लखनऊ

Page 1 of 60

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by Source
- Mar 29, 2017
कसौटी जिंदगी की एक्ट्रैस श्वेता तिवारी और कॉन्ट्रोवर्सी फेम सोफिया हयात अब आपको एक फिल्म में नजर आएंगी. फिल्म भी ऐसी कि ...
Post by Source
- Mar 29, 2017
मार्च के महीने में ही गर्मी ने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। गुजरात के अहमदाबाद में भीषण गर्मी के ...
Post by Source
- Mar 29, 2017
बॉलीवुड अभिनेत्री और पूर्व मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन की छोटी बेटी का एक डांसिंग वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर ...
Post by Source
- Mar 29, 2017
आपमें से ऐसे कितने लोग होंगे जो अपनी बेडरुम या सेक्स लाइफ को लोगों के साथ बेझिझक शेयर कर लेते हैं...?? लेकिन बॉलीवुड ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…