जय श्री राम शुभ मंगलवार भारत माता की जय ॐ रामाय नमः सेना को बदनाम न करे 1947 से आज तक भारत को सुरक्षित रखने का काम सेना ने किया है । कैसे 2 हालात में युद्ध लड़े 1948 और 1962 में तो हथियार भी पुरे नही थे तब क्या कोई भारतीय नागरिक , मीडिया या राजनेता खुद को कठघरे में खड़ा किया अगर नही तो एक टुकडी में कुछ गड़बड़ी को लेकर 70 साल से विश्व में सशक्त सेना को एक साथ कठघरे में खड़े करने वाले मीडिया और राजनेताओं को 24 घण्टे जाँच तक सब्र नही क्यों क्या मीडिया और नेता सेना के मनोबल को गिराने का अवसर ढ़ुढ़ते रहते है । जबकि 70 साल में हर राजनेता किसी न किसी रूप से सत्ता में थे पर किये कुछ नही अब दिन भर बहस और टीका टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण है जाँच का इंतजार करे जो दोषी होगा उसे सजा मिलेगी क्योकि सेना की न्याय प्रणाली मजबूत है इतना दिन चुप नही रह सकते है क्या हर हर महादेव बी एस त्रिपाठी राष्ट्रीय संयोजक तिरपाल से मन्दिर निर्माण मुहीम अयोध्या

Published in Public Opinion

नई दिल्ली: बीएसएफ के जवान तेजबहादुर यादव ने फेसबुक वीडियो के जरिए बड़े अफसरों पर जवानों को मिलने वाले खाने में घोटाले का आरोप लगाया है. तेजबहादुर के मुताबिक उन्हें नाश्ते में जली हुई एक रोटी, चाय और खाने के नाम पर सिर्फ हल्दी नमक वाली दाल ही मिलती है. तेजबहादुर का ये वीडियो फेसबुक पर वायरल हो गया है और इसे 70 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है तो वहीं चार लाख लोगों ने वीडियो शेयर किया है. अब आपको बीएसएफ के जवान तेजबहादुर को लेकर बेहद अहम जानकारी देते हैं. एबीपी न्यूज को सूत्रों से खबर मिली है कि इस जवान का करियर काफी विवादों में रहा है और अफसरों से बदसलूकी उसकी आदत रही है. 20 साल की सेवा में तेज बाहदुर को चार बार कड़ी सजा मिल चुकी है. जिसमें उसे क्वार्टर-गार्ड जेल में भी रखा जा चुका है. तेजबहादुर पर अपने कमांडेंट पर बंदूक ताने तक का संगीन आरोप लग चुका है. बीएसएफ के प्रवक्ता के मुताबिक तेज बहादुर बार-बार नियम तोड़ता रहा है. बिना बताए ड्यूटी से गायब होना और शराब पीना और अधिकारियों से बदसलूकी उसकी आदत है. कई बार उसकी कांउसिंलग हो चुकी है और अपनी आदतों की वजह से ही वो अधिकतर हेडक्वॉर्टर में तैनात रहा है. काउंसलिंग के बाद एक्सपेरेमेंटल बेसिस पर उससे 10 दिन पहले ही सीमा पर ड्यूटी के लिए भेजा गया था. सूत्रों के मुताबिक एलओसी पर ड्यूटी काफी सख्त है और यहां का मौसम भी बेहद ठंडा है. इसी वजह से वो यहां ड्यूटी नहीं चाहता था और अफसरों को नतीजे भुगतने की धमकी दे चुका था. सूत्रों की मानें तो तेज बहादुर ने कुछ दिनों पहले वीआरएस लेने की अर्जी भी दी थी तेज बहादुर यादव पुंछ के मंडी इलाके में 29वीं बटालियन के एडमिनिस्ट्रेटिव हेडक्वार्टर में संतरी के पद पर तैनात है. ये इलाका एलओसी के बेहद करीब है और यहीं से हाई-ऑल्टिट्यूड फॉरवर्ड लोकेशन वाली पोस्ट का रास्ता जाता है. संवेदनशील इलाका होने के नाते यहां पर बीएसएफ की टुकड़ी सेना के तहत काम करती है. राशन भी सेना से ही आता है लेकिन जवानों के लिए खाने पकाने की जिम्मेदारी बीएसएफ के पास ही है. बीएसएफ के प्रवक्ता के मुताबिक, “सीमा सुरक्षा बल अपने जवानो के कल्याण के प्रति संवदेनशील है. अगर कोई गड़बड़ी पाई जाती है तो उसकी जांच कराई जाती है. एलओसी जैसे इलाकों में तो जवानों के खाने पर खासा ध्यान दिया जाता है. उन्हें कैलोरी के हिसाब से डाइट मिलती है. सुबह में नाश्ते में सब्जी और अचार के साथ दो-तीन परांठे मिलते हैं. कभी कभी अंडे और ऑमलेट मिलते हैं. दोपहर में दाल सब्जी, रोटी और चावल मिलते हैं. डिनर में दाल, सब्जी और रोटी मिलती है. कभी कभी नॉन-वेज भी मिलता है.”

Published in Breaking News

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by Source
- Jan 18, 2017
जेएनयू में देशद्रोही नारों के समर्थन में रही बंगाल की ये अभिनेत्री आजकल शूर्खियो में हैं मगर इस बार ये अपने हॉट फोटोशूट ...
Post by Source
- Jan 18, 2017
चावल के साथ आपने मसूर से चना और भी कई वेराइटी की दाल खाई होगी. प्रोटीन से भरी दाल आपके हेल्थ के लिए ...
Post by Source
- Jan 20, 2017
पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया और वॉट्सऐप ग्रुप्स पर एक लड़की के डांस वीडियो काफी शेयर किया जा रहा है। वीडियो में एक ...
Post by Source
- Dec 23, 2016
कामेच्छा यदि किसी भी व्यक्ति में सामान्य लेवल से कम होती है तो जीवन में उसके लिए कई परेशानियां पैदा हो जाती हैं। ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…