National

National (618)

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में गुरुवार सुबह सेना के काफिले पर आतंकियों ने हमला कर दिया। इसमें 3 जवान शहीद हो गए, जबकि 7 घायल हैं। आतंकियों से मुठभेड़ में एक नागरिक की भी मौत हुई है। हमले के बाद एक आतंकी फरार बताया जा रहा है।जम्मू-कश्मीर के शोपियां में घात लगाकर किया हमला दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकियों ने गुरुवार सुबह सेना की पट्रोलिंग पार्टी पर घात लगाकर यह हमला किया। जानकारी के मुताबिक सेना का गश्ती दल कुंगू गांव में सर्च ऑपरेशन के बाद लौट रहा था। वहां आतंकियों ने सेना के गश्ती दल पर गोलीबारी की थी, जिसके बाद यह यह सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था। शोपियां के चित्रगाम गांव के पास घात लगाए बैठे आतंकियों ने अचानक जवानों पर हमला बोला। इसमें सेना के 3 जवान शहीद हो गए, जबकि 7 जवान घायल हो गए। जवाब कार्रवाई में सेना ने एक आतंकी को मार गिराया। एक आतंकी के गांव में छिपे होने की आशंका है। इस मुठभेड़ में एक महिला की भी मौत हो गई। घायल जवानों को इलाज के लिए श्रीनगर ले जाया गया है।

देशभर में आज मोबाइल नेटवर्क इतना फैल चुका है कि लोग पुराने टेलिफोन को तो भूल ही गए हैं। इसके साथ ही देशभर में मोबाइल यूज करने वाले ज्यादातर कस्टमर्स प्रीपेड सिम कार्ड यूज करते हैं। अब तक देखा जाता था कि लोग जुगाड़ करके प्रीपेड सिम बाजार से खरीद लेते थे। या फिर ये भी देखा जाता था कि लोग बाजार में रिटेलर के पास जाकर अपना सिम कार्ड रिचार्ज भी करा लेते थे। लेकिन अब लगता है कि ऐसा नहीं हो सकेगा। बताया जा रहा है कि पीएम मोदी जल्द ही एक बड़ा ऐलान कर सकते हैं। कहा जा रहा है कि मोदी सरकार एक इस तरह के प्लान पर काम कर रही है, जिसके तहत अगले 1 साल में सभी तरह के प्रीपेड सिम कार्ड रखने वालों को को अपनी पहचान साबित करनी होगी। बताया जा रहा है कि पहचान साबित करने के बाद ही सिम कार्ड को रिचार्ज करने की इजाजत दी जाएगी। भारत सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को इस बात की जानकारी दी है। अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने मुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर की अगुवाई वाली बेंच से कहा कि सरकार आधार से जुड़े KYC जैसे प्रोजेक्ट को लेकर जल्दबाजी में नहीं बल्कि सोच समझ कर कदम उठा रही है। इसके साथ ही उन्होंने चीफ जस्टिस को बताया कि इसके लिए फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन में भी पारदर्शिता काफी जरूरी है। उन्होंने कहा कि मोबाइल के जरिए फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन का तेजी से प्रचलन बढ़ता जा रहा है। रोहतगी ने बताया कि ट्राई के आंकड़ों पर गौर करें तो 95 फीसदी से भी ज्यादा लोग प्रपेड सिम का इस्तेमाल करते हैं। इसके बाद उन्होंने कहा कि पोस्टपेड वाले ग्राहकों की संख्या बेहद ही कम है। उन्होंने बताया कि इस वक्त देश भर के 1 लाख से ज्यादा काउंटरों पर प्रीपेड सिम कार्ड बेचे जाते हैं। हालांकि रोहतगी ने ये भी कहा है कि अगर ये नियम सख्त तरीके से जल्दी ही लागू कर दिया तो इससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इससे बैंकिंग और मॉनिटरी ट्रांजेक्शंस प्रभावित हो सकता है। रोहतगी ने दावा किया कि भारत में अब तक करीब 110 करोड़ लोग अपना आधार कार्ड बनवा चुके हैं। उन्होंने बताया कि 75 साल से ज्यादा की उम्र के काफी कम लोग आधार से नहीं जुड़े हैं। रोहतगी के बयान से लग रहा है कि आने वाले वक्त में प्रीपेड सिम कस्टमर्स के लिए आधार कार्ड काफी जरूरी होगा। कोर्ट में मुकुल रोहतगी ने बताया कि भारत सरकार सभी मोबाइल फोन कस्टमर्स के लिए आधार से जुड़े KYC की तैयारी में है। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में वक्त लगेगा और ये फैसला रातों रात नहीं लिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आने वाले एक साल के भीतर सरकार आधार से जुड़े KYC के लिए सिस्टम बनाएगी। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि आने वाले वक्त में प्री पेड सिम कार्ड के कस्टमर्स के लिए नियम और भी ज्यादा सख्त हो जाएंगे। ये कुछ ऐसे ही होगा, जिस तरह पोस्टपेड सिम कार्ड रखने वालों के लिए नियम हैं। सरकार का मानना है कि इस तरह से ऑनलाइन होने वाले अपराधों पर भी लगाम लगाई जा सकेगी। अब देखना है कि पीएम मोदी का ये फॉर्मूला देश के लोगों को कितना पसंद आता है।

बिहार के कांग्रेस नेता और उपाध्यक्ष ब्रिजेश पांडे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगा है। आरोप लगने के बाद पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। पुलिस ने ब्रिजेश पांडे की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी। ब्रिजेश पांडे पर ये गंभीर आरोप बिहार में पूर्व मंत्री की बेटी ने लगाया। ब्रिजेश पांडे के साथ-साथ उन्होंने रिटायर्ड अफसर के बेटे और प्रियदर्शी शोरूम के मालिक निखिल प्रियदर्शी पर आरोप लगाया। इस आरोप को एसआईटी ने सही पाया है। एसआईटी ब्रजेश पांडे की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। एसआईटी ने जांच के बाद पूर्व मंत्री की बेटी के आरोपों को सही पाया है और अब ब्रजेश पांडे पर सेक्स रैकेट का यह केस चलेगा। जनवरी में पटना के मशहूर प्रियदर्शी शोरूम के मालिक निखिल प्रियदर्शी पर पूर्व दलित कांग्रेसी मंत्री की बेटी ने सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगाया था। इस मामले में लड़की ने यह भी बयान दिया था कि निखिल प्रियदर्शी उसको ब्रजेश पांडे के पास ले गया जहां उसका यौन शोषण किया गया। इस मामले मे आईजी ए.के. यादव ने बताया कि ब्रजेश पांडे की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। वहीं इस मामले में निखिल और संजीत पहले से ही आरोपी हैं। एसआईटी ने पांडेय के रूपसपुर स्थित घर पर छापेमारी की लेकिन वे नहीं मिले। ऐसी आशंका जाहिर की जा रही है कि वो भूमिगत हो गए हैं।

यूपी में विधानसभा चुनाव के चौथे चरण का मतदान 23 फरवरी को होना है। इससे ठीक पहले सपा के पूर्व महासचिव अमर सिंह ने पार्टी में विवाद को लेकर सनसनीखेज दावा किया है। अमर सिंह ने कहा है कि पिछले दिनों समाजवादी पार्टी में अखिलेश यादव और मुलायम सिंह के बीच हुआ झगड़ा एक ड्रामा था जिसकी स्क्रिप्ट खुद मुलायम सिंह ने लिखी थी। एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने दावा किया कि अखिलेश और मुलायम पहले भी एक थे और आगे भी एक रहेंगे। अमर सिंह ने कहा कि यह एक रचा हुआ ड्रामा था जिसमें हम सभी को रोल दिया गया था। मुझे बाद में अहसास हुआ कि मेरा इस्तेमाल हो रहा है। यह ड्रामा मुलायम सिंह ने रचा था ताकि अखिलेश की छलि सुधारी जा सके। यह एक चाल थी ताकि सत्ता विरोधी लहर, कानून व्यवस्था और दूसरे मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाया जा सके। पीएम के समर्थन में आए अमर अमर सिंह ने इस दौरान अखिलेश के नेतृत्व पर भी सवाल उठाए साथ ही पीएम मोदी के समर्थन में भी बोले। उन्होंने कहा कि पीएम किसी पार्टी का नहीं बल्कि देश और लोगों का होता है। पीएम मोदी और खुद को बाहरी कहे जाने को लेकर उन्होंने कहा कि मुझे बाहरी कहा गया, मैं तो बाहरी ही था। पार्टी में सभी निर्णय अखिलेश, मुलायम, शिवपाल और रामगोपाल ही लेते हैं। अमर को बाहरी बताकर किया था हमला बता दें कि चुनाव से पहले सपा में हुए संग्राम में अखिलेश और रामगोपाल यादल लगातार इशारों में अमर सिंह को बाहरी करार देते हुए आरोप लगाते रहे कि उन्हीं की वजह से बाप बेटे में झगड़ा हो रहा है। अंत में यह विवाद चुनाव आयोग पहुंचा था जहां पार्टी और इसका चुनाव चिन्ह अखिलेश को सौंप दिए गए थ

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के एक और फैसले ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चिंता बढ़ा दी है। ट्रंप के एच-1बी वीजा में कटौती के रुख से भारतीय प्रोफेशनल में हलचल मच गयी है। पीएम मोदी ने कहा कि अमेरिका को संतुलित रवैया अपनाना चाहिए। स्किल्ड प्रोफेशनल्स की आवाजाही पर अमेरिका को दूर की सोच अपनाना चाहिए। गौरतलब है कि अमेरिकी अर्थव्यस्था में भारतीयों का बड़ा योगदान रहा है। एच-1बी वीजा में कटौती से भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। क्या है H-1B वीजा H-1B वीजा एक नॉन-इमीग्रेंट वीजा है। इसके तहत अमेरिकी कंपनियां विदेशी एक्सपर्ट्स को अपने यहाँ रख सकती हैं। इस वीजा के तहत हजारों लोगों को अमेरिका में नौकरी मिलती है। हर साल अमेरिका 65 हजार भारतीयों को एच-1बी वीजा जारी करता है। लेकिन नए प्रावधानों से भारतीयों की नौकरियां प्रभावित होंगी। H-1B वीजा में नए प्रावधान H-1B वीजा पर नए नियमों के लिए कैलिफोर्निया की सांसद जो लॉफग्रेन ने ‘द हाई स्किल्ड इंटीग्रिटी एंड फेयरनेस एक्ट 2017’ बिल पेश किया था। 30 जनवरी को यूएस हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में पेश किए गए बिल में प्रावधान है कि H-1B वीजा होल्डर्स को मिनिमम सैलरी 60 हजार डॉलर (40 लाख रु.) से दोगुनी बढ़ाकर 1.30 लाख डॉलर (करीब 88 लाख रु.) देनी होगी। अगर ये बिल पास होता है तो ज्यादा सैलरी के प्रोविजन के चलते इन्फोसिस, विप्रो, टीसीएस जैसी भारतीय कंपनियों में काम कर रहे आईटी प्रोफेशनल्स की नौकरियों पर खतरा हो सकता है। इस बिल के तहत लोएस्ट पे कैटेगरी हटा दी गई है। यह कैटेगरी 1989 से लागू थी। इसी के तहत H-1B वीजा होल्डर्स को मिनिमम सैलरी 60 हजार डॉलर देने का नियम था पीएम नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की दूरदर्शिता पर उठाए सवाल पीएम मोदी ने 26 अमेरिकी सांसदों के एक डेलीगेशन का स्वागत किया। मुलाकात में उन्होंने ट्रंप के साथ उनकी सकारात्मक बातचीत का जिक्र किया। उन्होंने कहा दोनों देश साथ मिलकर अच्छा काम कर सकते हैं। मोदी ने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि फोन पर ट्रंप के साथ उनकी बातचीत अच्छी रही है। प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान मोदी ने उन क्षेत्रों के बारे में अपने विचारों से अवगत कराया जिनमें दोनों देश अधिक नजदीकी के साथ काम कर सकते हैं। इन क्षेत्रों में लोगों के बीच बेहतर संपर्क महत्वपूर्ण है जिसका पिछले कई सालों के दौरान एक दूसरे की समृद्धि में काफी योगदान रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी एक वक्तव्य में यह जानकारी दी गई है।

युवती का फोटो वायरल करनेवाला गिरफ्तार मीरगंज : मीरगंज शहर में पहली बार युवती का फेक आइडी बना कर आपत्तिजनक तसवीर वायरल करनेवाले साइबर अपराधी दिग्विजय कुमार को मैरवा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. मीरगंज पुलिस ने गिरफ्तार युवक से रिमांड पर लेकर पूछताछ करने की तैयारी शुरू कर दी है. पुलिस को गिरफ्तार युवक से कई मामलों का खुलासा होने की संभावना है. उधर, तसवीर वायरल होने के बाद युवती तथा उसके परिवार के लोग मानसिक रूप से उत्पीड़न का शिकार हुए थे. पुलिस सूत्रों ने बताया कि फिलहाल उसकी गिरफ्तारी मैरवा कांड संख्या 226/16 में की गयी है. इसमें मैरवा के डॉक्टर ने इस युवक पर फर्जी आइडी के सहारे एक युवती का फोटो वायरल करने का आरोप लगाया है. मैरवा की इस युवती का फोटो वायरल होने पर परिजनों ने मामला दर्ज कराया था, जिसमें मीरगंज के दिग्विजय कुमार को एक मात्र आरोपित बनाया था. दिलचस्प बात यह है कि रिश्ते में यह युवती दिग्विजय की भांजी लगती है. इसके पहले इस युवक पर मीरगंज में कांड संख्या 153/13 में मामला दर्ज कराया गया था. इसमें शहर की एक युवती का फेक आइडी बना कर उसका फोटो वायरल कर दिया गया था. इस मामले में मीरगंज की पुलिस आज तक अनुसंधान कर रही है.

अब आप एक ही क्विक रिस्पांस यानी क्यूआर कोड के जरिए तमाम पेमेंट नेटवर्क के जरिए भुगतान कर सकेंगे. भारतक्यूआर के नाम से इस नए कोड को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने मास्टर कार्ड और वीजा के साथ मिलकर विकसित किया है. दुनिया भर में ऐसा पहली बार हो रहा है जब विभिन्न भुगतान व्यवस्था के लिए एक ही क्यूआर कोड होगा. अभी अलग-अलग पेमेंट प्रोवाइडर का एक ही दुकान पर अलग-अलग क्यूआर कोड होता है. मसलन, पेटीएम का अलग होगा तो एचडीएफसी बैंक के पेजैप का अलग. अब यदि किसी के पास पेटीएम का मोबाइल बटुआ है तो उसे पेटीएम का क्यूआर कोड देखना होता है और उसी को स्कैन कर भुगतान किया जा सकता है. फिलहाल, नयी व्यवस्था से क्यूआर कोड के जरिए भुगतान करना आसान हो जाएगा. खास बात ये है कि इस इस तरह की डिजिटल व्यवस्था में प्वाइंट ऑफ सेल यानी पॉस मशीन की जरुरत नहीं होती. बस आपके पास एक स्मार्ट फोन होना चाहिए. ध्यान रहे कि देश में इस समय करीब 100 करोड़ मोबाइल हैंड सेट इस्तेमाल में आ रहे हैं जिसमें से 35 से 40 करोड़ तक स्मार्टफोन है. नए कोड को भारतीय रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर आर गांधी ने सोमवार को लांच किया. नयी व्यवस्था में दुकानदार को-अलग कोड की जगह एक ही कोड भुगतान काउंटर पर प्रदर्शित करना होगा. ये कोड संबंधित बैंक के मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए भी मुमकिन है. यही नहीं नए कोड को दुनिया के दूसरे देशों में आसानी से लागू किया जा सकता है. महत्वपूर्ण बात ये है कि नये कोड के लिए दुकानदारों को अपने मौजूदा क्यूआर कोड में किसी तरह के बदलाव करने की जरुरत नहीं होगा, सारा काम बैकएंड पर हो सकता है. नए कोड को जो बैंक लागू करने के लिए तैयार है उनमें · भारतीय स्टेट बैंक · बैंक ऑफ बड़ौदा · बैंक ऑफ इंडिया · यूनियन बैंक · आईसीआईसीआई बैंक · एचडीएफसी बैंक · सिटी यूनियन बैंक · डेवलपमेंट क्रेडिट बैंक · करूर वैश्य बैंक · आरबीएल बैंक · विजया बैंक, और · यस बैंक शामिल हैं. कई दूसरे बैंक भी इसे लागू करने के लिए तैयारी में है. क्यूआर कोड आधारित भुगतान व्यवस्थआ को काफी सुरक्षित माना जाता है, साथ ही किफायती भी. इसमें बस स्कैन कर भुगतान करना होता है. इस व्यवस्था को ‘पुश पेमेंट’ के नाम से भी जाना जाता है. इसमें भुगतान की प्रक्रिया शुरू करने की जिम्मेदारी व्यापारी की नहीं, बल्कि ग्राहक की होती है. साथ ही इसमें पिन या कोई दूसरी व्यक्तिगत जानकारी बताने की जरुरत नहीं होती. भारतक्यूआर में बैंक अकाउंट व आईएफसी कोड, यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस और आधार की जानकारी देने की भी सुविधा उपलब्ध होगी. इससे डिजिटल भुगतान के लिए ज्यादा से ज्यादा आधार मौजूद होंगे.

हवाई अड्डों की तर्ज पर अलग-अलग अराइवल और डिपार्चर वाला नई दिल्ली स्टेशन, पहला रेलवे स्टेशन होगा। स्टेशन की मल्टी-स्टोरी बिल्डिंग में डिपार्चर्स और अराइवल के लिए अलग सेक्शन होंगे। अजमेरी गेट की तरफ आसमान छूते 3 टावर कमर्शल इस्तेमाल के लिए होंगे। स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहे लोगों के लिए स्टेशन के फर्स्ट फ्लोर पर काफी स्पेस होगा। ट्रेन से उतरने वाले लोग ग्राउंड फ्लोर से बाहर आ सकेंगे। सेकंड फ्लोर पर ऑफिस होंगे। इंडीजीनियस स्टेट ऑफ आर्ट्स वाला नई दिल्ली स्टेशन भारत में ही नहीं दुनिया में अपनी तरह का पहला स्टेशन होगा। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की कायाकल्प में साउथ कोरियन रेलवे का विशेष योगदान रहेगा। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की कायाकल्प पर लगभग 10 हजार करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे।

Page 1 of 52

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by अंकिशा राय
- Feb 23, 2017
जी हां, यहां बात हो रही है दंगल गर्ल फातिमा सना शेख की। खबर है कि फातिमा को यशराज बैनर की फिल्म ठग्स ऑफ हिंदुस्तान के ...
Post by Source
- Feb 23, 2017
हर किचन में कुछ ऐसी चीजें मौजूद होती है। जो कि आपकी सेहत के साथ-साथ सौंदर्य के लिए भी काफी फायदेमंद ...
Post by सत्य चरण राय (लक्की)
- Feb 24, 2017
दिल्ली: ATM से निकले 2 हजार के चूरन वाले नोट, आरोपी गिरफ्तार Feb 2017 नई दिल्ली [जेएनएन]। राजधानी में एटीएम से 2000 ...
Post by Source
- Feb 09, 2017
लड़कियों का फेवरेट होता है मेकअप , मेकअप में भी लिपस्टिक होती है सब लड़कियों की फेवरेट । लेकिन क्‍या आप जानते हैं ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…