Trending on Social Media

Trending on Social Media (1962)

"लखनऊ: चुनाव से पहले बहुजन समाजवादी पार्टी की मुखिया मायावती को अबतक का सबसे बड़ा झटका लगा है. बताया जा रहा है कि के एक पूर्व सांसद और एक पूर्व विधायक के अलावा बसपा के 64 नेता बसपा छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं. सूत्रों के मुताबिक सलेमपुर से बसपा के पूर्व सांसद रमाशंकर राजभर, बीएसपी के पूर्व के विधायक विजय कुमार राम, तिलोई के तनवीर अहमद जायसी, गाजीपुर के ब्लॉक प्रमुख के साथ 64 बड़े नेता बसपा छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं. इसके साथ ही कानपुर के कांग्रेस नेता फतेहबहादुर गिल ने भी सपा का दामन थाम लिया है. इसके अलावा यह भी खबर है कि बदायूं से 4 बार MLA रहे रामसेवक पटेल ने भी भाजपा को छोड़ दिया है. कहा जा रहा कि वो बदायूं से टिकट न मिलने से नाराज थे. सूत्रों का कहना है कि रामसेवक सिंह शिव सेना से चुनाव लड़ सकते हैं" - मायावती को लगा अबतक सबसे बड़ा झटका, एक पूर्व सांसद और विधायक समेत 64 नेता सपा में हुए शामिल।।।।।।।।।।।

*नियमो को ताख पे रखकर दिन भर नो इंट्री मे ट्रक करते है इंट्री* ताजा मामला आशियाना थाना अंतर्गत बंग्ला बाजार पुल का है अभी चल रहा था सघन चेकिंग अभियान और जीप के जाते ही नो इंट्री मे घुसने लगे ओवरलोड सीमेंट के भरे हुवे ट्रक अभी 48 घंटे ही बीते है जब एटा मे तेज ट्रक ने स्कूल बस मे टक्कर मार दी थी जिसमे कई मासूम बच्चो की जाने चली गयी थी फिर भी राजधानी लखनऊ मे पूरा दिन नो इंट्री मे ओवरलोड ट्रक आराम से जाते रहते है क्या किसी बड़े हादसे का इंतजार है आलाधिकारियो को?????????

साम्प्रदायिक भावना भड़काने में प्रधानाचार्य के खिलाफ मुकदमा गोंडा 21 जनवरी। उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में सोशल मीडिया पर साम्प्रदायिक भावना भड़काने व समाज में विद्वेष फैलाने के लिए एक इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य के खिलाफ अभियोग दर्ज कराया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि आसन्न विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को शिक्षित करने के उद्देश्य से प्रशासन द्वारा अनेक प्रकार के उपाय किए जा रहे हैं। इसी क्रम में सोशल मीडिया ‘वाट्स एप्प’ पर सुव्यस्थित मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता (स्वीप) नामक एक ग्रुप पर शनिवार की सुबह शीतला प्रसाद इंटर कालेज हथिनाग थाना वजीरगंज के प्रधानाचार्य दिनेश सिंह ने साम्प्रदायिक भावना भड़काने और समाज में विद्वेष फैलाने वाला एक आलेख पोस्ट किया। जिला निर्वाचन अधिकारी आशुतोष निरंजन ने प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए गु्रप के एडमिन को मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश दिया। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में वरिष्ठ लिपिक (सह ग्रुप एडमिन) रवि यादव की तहरीर पर प्रधानाचार्य के विरुद्ध भादवि की धारा 153ए व आईटी एक्ट की धारा 66बी व 66सी के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है।

अखिलेश को लग सकता है एक और झटका, ये पूर्व मंत्री भी छोड़ेगी साथ लखनऊ: सपा के दिग्गज नेता अंबिका चौधरी ने सपा को झटका देते हुए आज बीएसपी का दामन थाम लिया। इस झटके से सपा अभी संभल भी नहीं पाई है कि एक और पूर्व मंत्री के सपा छोडऩे की खबरें आने लगी हैं। समाजवादी पार्टी की मुस्लिम विधायक शादाब फातिमा बसपा ज्वाइन कर सकती हैं। शादाब फातिमा उत्तर प्रदेश की जहूराबाद विधानसभा से विधायक हैं। सूत्रों की मानें, तो इससे बसपा को मुस्लिम मतदाताओं में पैठ बनाने में मदद मिलेगी। जुझारू महिला विधायकों में से एक शादाब फातिमा समाजवादी पार्टी की जुझारू महिला विधायकों में से रही हैं। शादाब फातिमा मंत्री थीं, पर अखिलेश यादव ने उन्हें हाल ही में मंत्री पद से हटा दिया था। फातिमा को मंत्री पद से हटाए जाने को लेकर मुलायम सिंह यादव बहुत नाराज हुए थे। कुछ दिनों पूर्व जब मुलायम सिंह यादव ने पार्टी कार्यालय में यह कहा था कि ऐसा संदेश गया है कि मुस्लिम विरोधी हैं अखिलेश, तो मुलायम ने शादाब फातिमा को मंत्री पद से हटाए जाने का भी जिक्र किया था। मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि अखिलेश ने महिला को मंत्री से हटा दिया। यह ठीक नहीं है। बसपा को होगा फायदा जानकारों की मानें, तो शादाब फातिमा अगर बसपा ज्वाईन करती हैं, तो निश्चित रूप से इससे बसपा को मुस्लिम मतदाताओं को लुभाने में मदद मिलेगी। वहीं सपा के लिए यह एक और बड़ा झटका होगा।

बिहार में 2 करोड़ लोगों ने रचा इतिहास! पटना: बिहार से पूरी दुनिया को नशामुक्त समाज का संदेश देने के उद्देश्य से आज करीब 2 करोड़ लोग 45 मिनट तक एक दूसरे का हाथ थाम कर नया इतिहास रच डाला। राजधानी पटना समेत राज्य के सभी जिलों में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच निजी एवं सरकारी विद्यालयों के बच्चे, शिक्षक, राजनेता, व्यापारी समेत समाज के विभिन्न वर्ग के लोग नशामुक्ति का संदेश लिए 12:15 बजे से 1:00 बजे तक एक दूसरे का हाथ पकड़ कर संभवत: विश्व की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला का निर्माण कर रिकार्ड बना दिया। पटना के एतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी, राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव समेत विभिन्न दलों ने मानव श्रृंखला में हिस्सा लिया। काले और श्वेत रंग के कपड़े पर बड़े-बड़े अक्षरों में नशामुक्त समाज का संदेश लिखा गया था। बच्चों द्वारा बनाई गई मानव श्रृंखला के माध्यम से 'हम बच्चों की यही पुकार, नशा मुक्त हो अपना बिहार’ का संदेश दिया। राज्य के करीब 11 हजार किलोमीटर लंबी इस मानव श्रृंखला की तस्वीर ड्रोन, हेलीकॉप्टर समेत देश-विदेश के उपग्रहों के माध्यम से ली गई।

​मुंबई। बॉम्बे High Court ने कहा है कि लड़की जब वयस्क और पढ़ी-लिखी हो, तो उसे शादी से पहले बनाए जाने वाले यौन संबंधों का अंजाम पता होना चाहिए। बलात्कार से जुड़े मामलों को लेकर अहम फैसला देते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा है कि शादी करने का वादा, रेप के हर मामले में प्रलोभन के तौर पर नहीं देखा जा सकता। रेप के एक मामले में 21 साल के युवक को गिरफ्तारी से बचने के लिए अग्रिम जमानत देते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया। युवक पर ब्रेकअप के बाद उसकी पूर्व गर्लफ्रेंड ने रेप का केस दर्ज कराया है। जस्टिस मृदुला भटकर ने कहा कि एक पढ़ी-लिखी लड़की जो अपनी मर्जी से शादी से पहले लड़के से संबंध बनाती है, उसे अपने फैसले की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। जस्टिस भटकर ने कहा, ‘अगर कोई धोखा देकर लड़की की सहमति हासिल करे तो वहां प्रलोभन की बात समझ में आती है। प्रथम दृष्टया यह मानने के लिए कुछ सबूत तो होने चाहिए कि लड़की को इस हद तक झांसा दिया गया कि वह शारीरिक संबंध बनाने को राजी हो गई। इस तरह के मामलों में शादी का वादा प्रलोभन नहीं माना जा सकता।’ सुनवाई के दारौन जज ने कहा कि हालांकि समाज बदल रहा है, फिर भी उस पर नैतिकता हावी है। उन्होंने कहा, ‘कई पीढ़ियों से यह नैतिक तौर पर माना जाता है कि शादी के समय तक वरजिन रहने की जिम्मेदारी लड़की की है। हालांकि आजकल की युवा पीढ़ी के पास सेक्स से जुड़ी सारी जानकारी होती है और युवा कई तरह के लोगों से मिलते-जुलते हैं। समाज उदार होने की कोशिश कर रहा है पर जहां शादी से पहले सेक्स का सवाल आता है, समाज नैतिकता की बात करता नजर आता है। ऐसे हालात में, एक लड़की जो लड़के से प्यार करती है, वह भूल जाती है कि सेक्स करने में लड़के के साथ उसकी मर्जी भी शामिल थी। वह बाद में अपने फैसले की जिम्मेदारी लेने से बचती है।’ कोर्ट ने ध्यान दिलाया कि संबंध खत्म होने के बाद रेप के आरोप लगाने का चलन आजकल काफी बढ़ रहा है। कोर्ट ने कहा कि ऐसे में अदालत को एक निष्पक्ष नजरिये से दोनों पक्षों की बात सुननी पड़ती है जिसमें आरोपी के अधिकार भी शामिल हैं और पीड़ित का दर्द भी। अदालत ने अपने पुराने आदेश का भी हवाला दिया जिसमें कहा गया था कि जब लड़की वयस्क और पढ़ी-लिखी हो तो उसे शादी से पहले बनाए जाने वाले यौन संबंधों का अंजाम पता होना चाहिए। रोहित जामवाल से

संतकबीरनगर।खलीलाबाद कोतवाली क्षेत्र में NH 28 के किनारे चल रही नकली बेसन बनाने की फैक्ट्री का पुलिस ने भण्डाफोड़ किया है। स्वाट टीम के छापे में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। काफी दिन से नकली बेसन की बिक्री की सूचना पर काम कर रही स्वाट टीम ने प्रभारी संतोष तिवारी के नेतृत्व में हाईवे के किनारे बरदहिया बाजार के एक मकान पर छापा मारा। यहां पर चावल, मटर व चना में केमिकल मिलाकर नकली बेसन तैयार किया जा रहा था जो कलश, राजधानी व अन्य ब्राण्ड के नाम से बेचा जाता था। चावल के आटे में कानपुर का बना अखाद्य केमिकल मिलाकर एक पैकेट से सात कुंतल बेसन तैयार किया जाता था। यह फैक्ट्री दो साल से किराए के मकान में रहने वाले चौरीचौरा निवासी पिता-पुत्र रामशरण और पुन्नूलाल चलाते थे। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है। छापे में 22 बोरी तैयार नकली बेसन, 80 बोरी चावल, मटर व चना कच्चा माल, पुन्नूलाल राजाराम ब्राण्ड का अखाद्य केमिकल, बोरा सिलने की मशीन बरामद की है। पुलिस मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई कर रही है। I24 से साभार

नई दिल्ली ।डोनाल्ड जॉन ट्रंप ने राष्ट्रपति पद की शपथ ले ली है. वे अमेरिका के 45 वें राष्ट्रपति बने. उन्हें अमेरिका के चीफ जस्टिस ने शपथ दिलाई. सबसे पहले वाइस-प्रेसिडेंट माइक पेंस ने शपथ ली. बता दें कि नवंबर में हिलेरी क्लिंटन को हराकर राष्ट्रपति पदका चुनाव जीतने वाले 70 साल के ट्रंप फैमिली के साथ शुक्रवार को चर्च भी गए. बतौर राष्ट्रपति ट्रंप की पहली स्पीच शपथ के बाद अपनी पहली स्पीच में ट्रंप ने कहा- दुनिया भर के लोगों का धन्यवाद. हम अमेरिका के नागरिक आज एक बड़े राष्ट्रीय प्रयास से जुड़े हैं। हम लोगों के लिए एकजुट हुए हैं। हम लोग मिलकर ये निश्चय करेंगे कि कई वर्षों तक साथ रहेंगे. चुनौतियों का सामना करेंगे, इसके बावजूद अपने कार्य करने में सफल होंगे। हम चाहेंगे कि शांति भी रहे। हम आभारी हैं ओबामा और मिशेल ओबामा के जो यहां मौजूद रहे। उन्होंने काफी काम किया है। आज की सेरेमनी बहुत अहम है। आज सत्ता का परिवर्तिन एक से दूसरे पर नहीं जा रहा बल्कि आज से हम लोगों के हाथ में सत्ता दे रहे हैं। जो स्ट्रगल कर रहे हैं उनके लिए क्या कर सकते हैं। हम सभी इस बात को जानते हैं कि ये आपकी सरकार है. ये सत्ता जनता की है.  2017 से जनता का शासन होगा 2017 इस बात के लिए यादगार रहेगा कि इस दिन लोग इस राष्ट्र के पुनः शासक बन गए.जो महिला-पुरुष भुला दिए गए थे उनको अब भुलाया नहीं जाएगा. इस ऐतिहासिक मौके पर आज आप लाखों की संख्या में आए हैं. इस आंदोलन में देखना ये है कि राष्ट्र सदा  बना रहता है और अमेरिकन महान हैं, वो सुरक्षित रहना चाहते हैं, लोगों को उनका ये अधिकार  मिलना चाहिए. बच्चों, तथा महिलाओं की स्थिति सुधरनी चाहिए. ड्रग्स ने जिस तरह  युवाओं को बर्बाद किया है उसे हमें रोकना है, आज से अभी से रोकना है हम एक राष्ट्र हैं और उनका दुख हमारा दुख है, उनके सपने हमारे सपने हैं उनकी सफलता हमारी  सफलता होगी. हम एकजुट होकर अपने लक्ष्य की ओर बढ़ेंगे इसी बात की मैंने आज शपथ ली  है. कई दशकों तक हम देखते रहे कि विदेशी उद्योग पनपता रहा और अमेरिकी उद्योग पीछे रह  गया. हमने दूसरे देशों के सीमाओं की सुरक्षा की लेकिन हम अपनी सीमाओं की रक्षा  नहीं कर पाए. हमने जितनी दौलत थी उसे दुनिया  को बांट, पर अब इसे रोकेंगे हमने ट्रिलियन  डॉलर खर्च कर दिए, दूसरे देशों को अमीर बनाया लेकिन हमारा विश्वास कम हो गया.  हमारे कारखाने बंद होते चले गए, यहां तक कि जो लाखों अमेरिकन काम करने वाले थे वो  पीछे रह गए. मिडिल क्लास इससे अत्यधिक प्रभावित हुआ. हमने जितनी दौलत थी उसे दुनिया  को बांटा लेकिन अब इसे रोकना है. *सबसे पहले अमेरिकियों का ख्याल* हमारी आवाज हर घर में सुनी जाए। आज से हम एक नया विजन लेकर आगे आएंगे। सबसे पहले हम अमेरिका की सोचेंगे। चाहे वो इमिग्रेशन हो, व्यापार हो, कुछ भी हो सबसे पहले अमेरिका और अमेरिकियों के लोगों के हितों का ख्याल रखा जाएगा। हम अपने रोजगार वापस लाएंगे, अपनी दौलत, अपने सपनों को फिर से वापस लाएंगे. अमेरिकी लोगों, अमेरिकी मजदूरों से इस देश को बनाएंगे। इस देश में अमेरिकी लोग योगदान देंगे। हम दूसरों के साथ भी संपर्क बनाएंगे लेकिन पहले अपना हित देखेंगे। - वाइस-प्रेसिडेंट माइक पेंस ने शपथ ली. - ट्रंप और ओबामा शपथ समारोह के लिए कैपिटोल पहुंचे. कुछ देर में शपथ ग्रहण.ट्रंप के साथ उनके बेटे ट्रंप जूनियर, बेटी इवांका ट्रंप भी शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे हैं.  - हिलेरी क्लिंटन अपने पति बिल क्लिंटन के साथ शपथ समारोह स्थल पर पहुंच चुके हैं।  - अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश भी सेरेमनी के लिए पहुंच चुकी हैं। समारोह में करीब 10 लाख लोग पहुंचे *ओबामा से ट्रंप की मुलाकात* शपथ समारोह से ठीक पहले ट्रम्प ने अमेरिका के 44वें राष्ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात की. इस मुलाकात के दौरान ट्रंप के साथ उनकी पत्नी मेलानिया भी थीं. ट्रंप की कारों का काफिला जैसे ही व्हाइट हाउस पहुंचा वहां मौजूद ओबामा दंपति ने उनका स्वागत किया. जैसे ही ट्रंप की कार ड्राइवे पर रुकी, उन्होंने ओबामा का इशारे से अभिवादन किया. ओबामा दंपति पोर्श की सीढ़ियों पर इंतजार कर रहे थे. जैसे ही ट्रंप कार से उतरे, ओबामा ने उनसे मुखातिब हो कर कहा, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति. ओबामा दंपति ने ट्रंप दंपति का गर्मजोशी से स्वागत किया। ओबामा ने उनसे पूछा, कैसे हैं आप? कैसा रहा चर्च? वह चर्च की प्रार्थना का जिक्र कर रहे थे जिसमें सुबह ट्रंप दंपति शामिल हुए. *ट्रंप का विरोध* वॉशिंगटन डीसी के लॉगन सर्किल में करीब 200 विरोधी प्रदर्शन कर रहे हैं। कई मॉस्क और ब्लैक ड्रेस पहन कर विरोध कर रहे हैं। बता दें कि शपथ समारोह का अपोजिशन के सांसद बायकॉट भी कर रहे हैं। सेरेमनी में डेमोक्रेटिक पार्टी के 60 सांसद शामिल नहीं हो रहे हैं। राष्ट्रपति के शपथ समारोह के लिए इस तरह का प्रदर्शन पहली बार हो रहा है. *डोनाल्ड ट्रंप की पूरी सक्सेस स्टोरी... * 1. 14 जून, 1946 को न्यूयॉर्क के कीन्स में जन्में ट्रंप स्कॉटिश प्रवासी फ्रेड एवं मैरी मैक्लियाड की संतान हैं. ट्रंप के कुल 5 भाई-बहनें हैं जिनमें वह चौथे नबंर पर हैं. 2. 1968 में डोनाल्ड ट्रंप ने यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिल्वेनिया के वॉर्टन स्कूल ऑफ फाइनेंस से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन किया है. 3. उन्होंने 1969 में पिता की कंस्ट्रक्शन कंपनी ‘एलिजाबेथ ट्रम्प एंड सन्स ’ के लिए काम करना शुरू किया था, वहीं 1971 में 25 साल की उम्र में पूरी तरह से उन्होंने कंपनी की कमान संभाली. 4. 1975 में अपने पिता से 1 करोड़ डॉलर उधार लिए थे और आज उनकी कंपनी की कीमत 1000 करोड़ डॉलर है. डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के 200 सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक हैं. 5. कंपनी की कमान संभालने के बाद उन्होंने कंपनी का नाम बदल ट्रंप आर्गेनाइजेशन कर दिया था. 6. वर्ष 1977 में ट्रंप ने इवाना से पहली शादी रचाई, उनकी यह शादी 14 साल चली. वहीं 1993 में ट्रंप ने मार्ला से दूसरी शादी की, जो 6 साल तक चली उसके बाद 2005 में ट्रंप ने दक्षिण स्लोवेनिया की मॉडल मेलानिया से तीसरी शादी रचाई. प्रतिक

स्कूली बस समेत 20 वाहन सीज एटा में स्कूल बस के हादसे का शिकार होने के बाद आरटीओ दफ्तर ने स्कूली वाहनों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। आरटीओ की ओर से गठित टीम ने शुक्रवार को 175 वाहनों की चेकिंग की। इनमें 64 वाहनों का चालान करने के साथ ही स्कूली बस समेत 20 वाहनों को सीज किया गया। शुक्रवार को संभागीय परिवहन अधिकारी राकेश सिंह ने एआरटीओ संदीप कुमार पंकज और संदीप कुमार जायसवाल के नेतृत्व में दो टीमों का गठन किया। दोनों ने जिले भर में स्कूली वाहनों की जांच की। संभागीय परिवहन अधिकारी सिंह ने बताया कि जिले भर में 42 बसों, 11 व्यावसायिक और 11 निजी मारूती वैन का चालान किया गया है। इसके अलावा 10 बसें, पांच व्यावसायिक और पांच निजी मारूति वैन को सीज भी किया गया है। उन्होंने बताया कि यह अभियान आगे भी जारी रहेगा, जो लोग निजी वाहनों का इस्तेमाल व्यावसायिक तौर पर स्कूलों में कर रहे हैं। उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। फिटनेस की जांच आज से स्कूली वाहनों के फिटनेस की जांच का काम शनिवार से परिवहन महकमा शुरू कर देगा। इसके लिए विभाग की ओर से सभी कर्मचारियों को विशेष हिदायत दी गई है। वहीं रविवार को कैंप लगाकर वाहनों की फिटनेस जांची जाएगी। संभागीय परिवहन अधिकारी राकेश सिंह ने बताया कि स्कूल प्रबंधन अपने वाहनों को लेकर आएंगे और उसी दिन फिटनेस कराकर ले जाएंगे। कोई भी वाहन यहां परिसर में खड़ा नहीं होगा। आफताब आलम

आजकल ये बहुत देखने को मिल रहा है कि मुस्लिम महिलायें इस्लाम छोड़कर हिन्दू धर्म अपना रही है। आखिर ऐसा क्या है इस्लाम में जो उन्हें धर्म परिवर्तन अपनाने के लिए मजबूर कर रहा है। हाल ही में गाजियाबाद की शबनम नाम की मुस्लिम महिला हिन्दू धर्म अपनाकर दामिनी बन गई। दामिनी के बाद अब और भी पीड़ित मुस्लिम महिलाओं का हौसला बढ़ा है और वे हिन्दू धर्म कि ओर बढ़ रही है। तीन तलाक और हलाला के नियम से दुखी शबनम ने हिंदू धर्म अपना कर दामिनी बन गई। दामिनी इस्लाम धर्म के नाम पर हो रही महिलाओं की दुर्दशा पर खुलकर उद्गार व्यक्त किए। 25 वर्षीय दामिनी ने कहा कि इस्लाम धर्म के नाम पर लगभग सभी मुस्लिम महिलाएं किसी न किसी प्रकार से यातनाएं झेल रही हैं। कम उम्र में उनका निकाह कर दिया जाता है, फिर उन पर जल्दी जल्दी बच्चे पैदा करने का दबाव दिया जाता है। बच्चा न पैदा होने पर उन्हें तमाम शारीरिक यातनाएं दी जाती हैं और छोटी छोटी बातों पर तलाक दे दिया जाता है। तलाक देने के बाद महिलाओं की स्थिति और भी बदतर हो जाती है।  दामिनी का कहना है कि तलाक के बाद शौहर से दोबारा निकाह करने के लिए मुस्लिम समाज द्वारा चलाई गई प्रथा हलाला से गुजरना होता है। उसने बताया कि तलाक के बाद उसके शौहर ने फिर से साथ रहने के लिए उसका हलाला भी कराया और दोस्त के हवाले कर दिया। तीन महीने बाद जब वह पति के पास पहुंची तो उसे स्वीकार करने के बजाय पति ने वेश्यावृत्ति में धकेल दिया।  क्या है हलाला  तलाक होने के बाद महिला को तीन माह तक पर्दे में रहकर इद्दत करनी होती है। इसके बाद उसे किसी अन्य व्यक्ति के साथ निकाह करना होता है। यह व्यक्ति महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाकर तलाक देगा। अब महिला को तीन माह की दोबारा से पर्दे में रहकर इद्दत करनी होगी। इसके बाद ही वह अपने पति से निकाह कर सकती है। इन सब अत्याचारों से परेशान आकर शबनम ने हिन्दू अपना लिया और दामिनी बन गई।  क्या है हलाला  तलाक होने के बाद महिला को तीन माह तक पर्दे में रहकर इद्दत करनी होती है। इसके बाद उसे किसी अन्य व्यक्ति के साथ निकाह करना होता है। यह व्यक्ति महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाकर तलाक देगा। अब महिला को तीन माह की दोबारा से पर्दे में रहकर इद्दत करनी होगी। इसके बाद ही वह अपने पति से निकाह कर सकती है। इन सब अत्याचारों से परेशान आकर शबनम ने हिन्दू अपना लिया और दामिनी बन गई।  क्या है हलाला  तलाक होने के बाद महिला को तीन माह तक पर्दे में रहकर इद्दत करनी होती है। इसके बाद उसे किसी अन्य व्यक्ति के साथ निकाह करना होता है। यह व्यक्ति महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाकर तलाक देगा। अब महिला को तीन माह की दोबारा से पर्दे में रहकर इद्दत करनी होगी। इसके बाद ही वह अपने पति से निकाह कर सकती है। इन सब अत्याचारों से परेशान आकर शबनम ने हिन्दू अपना लिया और दामिनी बन गई।  क्या है हलाला  तलाक होने के बाद महिला को तीन माह तक पर्दे में रहकर इद्दत करनी होती है। इसके बाद उसे किसी अन्य व्यक्ति के साथ निकाह करना होता है। यह व्यक्ति महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाकर तलाक देगा। अब महिला को तीन माह की दोबारा से पर्दे में रहकर इद्दत करनी होगी। इसके बाद ही वह अपने पति से निकाह कर सकती है। इन सब अत्याचारों से परेशान आकर शबनम ने हिन्दू अपना लिया और दामिनी बन गई।  तीन मुस्लिम महिलायें भी अपना सकती है हिन्दू धर्म  दामिनी के बाद तीन अन्य पीड़ित मुस्लिम महिलाएं भी तीन तलाक और हलाला के विरोध में सामने आई हैं। इनमें से दो महिलाओं को तो उनके पति ने बहुत ही मामूली सी बात पर तलाक दे दिया। उन्होंने तीन तलाक के खिलाफ अपनी आवाज को बुलंद करते हुए चेतावनी भी दे डाली कि अगर उनके साथ न्याय नहीं हुआ तो वो भी हिन्दू धर्म अपना लेगी।  मुरादनगर की रहने वाली सलमा, नगमा और अफसाना (बदले हुए नाम) ने अपनी आपबीती सुनाई और बताया कि बहुत ही मामूली बात पर उनके पतियों ने उन्हें तलाक दे दिया और उनके बच्चे भी अपने पास रख लिए। उनका कहना है कि तीन तलाक की यह कुप्रथा मुस्लिम महिलाओं की जिंदगी बर्बाद कर देती है। मुस्लिम समाज की यह कुप्रथा महिलाओं की जिंदगी नर्क बना रही है। तलाक होने के बाद अब अपने घर रह रही हैं, मगर वहां पर सम्मान नहीं मिल रहा।  क्या थी तीन तलाक देने कि वजहें  पीड़ित महिलाओं में एक का कहना है कि वह मायके से ससुराल आने में एक दिन लेट हो गई तो इसी बात पर उसे तलाक दे दिया गया। दूसरी महिला ने बताया कि वह नौकरी करती थी। उसके पति ने उसे बदचलन कह कर तलाक दिया। तीसरी युवती अपनी दास्तान नहीं सुना सकी और यह कह कर फूट फूट कर रोनी लगी कि उसके हालात बहुत बुरे रहे हैं। बयां नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि वे इसके खिलाफ शीघ्र ही अभियान चलाएगी और इसका विरोध करेगी। उनके विरोध के बाद भी यदि यह बुराई समाप्त नहीं होती है तो वह दामिनी की तरह धर्म परिवर्तन कर हिन्दू धर्म स्वीकार कर लेंगी। मुस्लिम चाहते है इस्लामीकरण बढ़ाना  इस्लामीकरण क लिए मुस्लिम समुदाय महिलाओं क साथ अत्याचार कर रहा है। वे ज्यादा बच्चे पैदा करने के लिए एक से ज्यादा शादी करते है। वे तीन तलाक का सहारा लेकर अपनी बीवियों को छोड़ देते है और दूसरी शादी कर देते है। ये क्रम चलता रहता है। ये सब करने क पीछे उनका मकसद इस्लामीकरण को बढ़ाना है। मुस्लिम महिलाएं मात्र बच्चे पैदा करने कि मशीने बन कर रह गई है। सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है मामला  आपको बता दे कि काफी लंबे समय से तीन तलाक मामले पर बहस चल रही है। जहां एक तरफ केन्द्र सरकार इसे महिलाओं के अधिकारों का हनन बता रही है, वहीं सुप्रीम कोर्ट में भी यह मामला चल रहा है। महिलाओं के हक के लिए कई मुस्लिम महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में एकतरफा तीन तलाक व बहुविवाह जैसी कुरीतियों के खिलाफ आवाज उठाई है। तश्वीरें काल्पनिक स्वस्तिक से

Page 1 of 141

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
Post by Source
- Jan 21, 2017
वायरल रही Deepika Padukone की इन तस्वीरों के साथ किसी ने फ़ोटोशॉप करके की बेहद भद्दी हरकत, देखें क्या है मामला ...
Post by Source
- Jan 18, 2017
चावल के साथ आपने मसूर से चना और भी कई वेराइटी की दाल खाई होगी. प्रोटीन से भरी दाल आपके हेल्थ के लिए ...
Post by सत्य चरण राय (लक्की)
- Jan 22, 2017
"लखनऊ: चुनाव से पहले बहुजन समाजवादी पार्टी की मुखिया मायावती को अबतक का सबसे बड़ा झटका लगा है. बताया जा रहा है कि के एक ...
Post by Source
- Dec 23, 2016
कामेच्छा यदि किसी भी व्यक्ति में सामान्य लेवल से कम होती है तो जीवन में उसके लिए कई परेशानियां पैदा हो जाती हैं। ...

Living and Entertainment

Newsletter

Quas mattis tenetur illo suscipit, eleifend praesentium impedit!
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…