Gorakhpur

गोरखपुर की इस बहू ने शौचालय ना होने से छोड़ दिया ससुराल,तब पढ़ें क्या निर्णय लिया पंचायत अधिकारी ने

Souchalay na hone se bahu ne chota ghar

देश में मोदी सरकार के आगमन के बाद सबसे महत्वपूर्ण विषय जिस पर जोर दिया गया वह है ,”स्वच्छता अभियान “महात्मा गांधी के आदर्शों पर चलते हुए नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत मिशन को नया आयाम देने का प्रयास किया इसी कड़ी में भाजपा की सरकार उत्तर प्रदेश में बनने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी स्वच्छ यूपी करने पर पहली प्राथमिकता दी।।। स्वच्छता अभियान के तहत खुले में शौच मुक्त गाँव को करने की पहल प्रदेश स्तर पर चलाई जा रही है इसको लेकर शासन प्रशासन की तरफ से बेहद गंभीर कदम उठाए जा रहे हैं।।। स्वच्छता अभियान को लेकर और शौचालय घर-घर बनवाने को प्रोत्साहन देने के लिए लगातार शौचालय की धनराशि में भी वृद्धि की जा रही है, सरकारी महकमों की तरफ से गांव-गांव में जाकर विशेष तौर पर लोगों को प्रोत्साहित किया जा रहा है कि आखिर कार शौचालय का क्या महत्व है और आप अपने घर में शौचालय बनवा कर किस प्रकार बीमारियों से मुक्त हो सकते हैं।।। इसी कड़ी में गोरखपुर के गोला क्षेत्र के पंचायत अधिकारियों के सामने एक अजीबोगरीब मामला आया , जिसे ग्राम पंचायत अधिकारी शैलेष राय ने तुरंत संज्ञान में लिया और मामले का आनन फानन में निस्तारण करते हुए शौचालय( इज्जत घर) पीड़ित परिवार को प्रदान किया और एक बिखरते हुए घर को बचाने का सराहनीय प्रयास किया।।।

क्या है मामला।       पांच दिवसीय समुदाय संचालित संपूर्ण स्वच्छता अभियान के अंतर्गत विकासखंड गोला के ग्राम पंचायत पतरां में खुले में शौच मुक्त हेतु जागरूकता के दौरान एक ऐसा तथ्य एडीओ पंचायत गोला के समक्ष आया कि एक घर ऐसा भी है जिनके घर में इज्जत घर ना होने के कारण उस परिवार की नई नवेली बहू घर छोड़ कर अपने मायके चली गई है।।।सी एल टी एस टीम के सदस्य और एडीओ पंचायत से शैलेष राय खंड प्रेरक नवनीत श्रीवास्तव गुलशन सिंह के द्वारा उस परिवार के घर जाया गया और वहां के मुखिया राज किशोर शर्मा से बात की गई कि आखिर वास्तविक मामला क्या है, राज किशोर शर्मा ने बताया कि हमारी चार पुत्र हैं और दूसरे पुत्र से दुर्गेश की शादी गोल्डी के साथ ग्राम पंचायत असवनपार विकासखंड गगहा में हुई है 28 दिन घर पर रहने के बाद शौचालय ना होने के कारण खुले में शौच जाने के कारण तमाम परेशानियों का सामना करने के पश्चात गोल्डी ने मुझसे और अपने पति से यह कहकर की खुले में शौच नहीं जाएंगे बहुत हो गया , और इस घर में जब तक नहीं बनेगा शौचालय तब तक मैं यहां नहीं आऊंगी।।इस प्रकरण को सुनने के बाद एडीओ पंचायत शैलेश राय ने तुरंत ग्राम प्रधान से आर एन चौहान और ग्राम पंचायत सचिव श्री अभिषेक गुप्ता से कहा कि कल से इनके घर इज्जत घर का निर्माण शुरू कराया जाए और स्थल का चयन तत्काल हो जाए और आनन फानन में ही राज किशोर के घर इज्जत घर का निर्माण प्रारंभ हो गया।।।अब गोल्डी यह सुनकर कब आती है यह महत्वपूर्ण होगा