GorakhpurPurvanchalUttar Pradesh

नारी सम्मान की बात करने वाली भाजपा ने गोरखपुर में नही जताया अपने महिला कार्यकर्ताओ पर भरोसा..

नगर निकाय चुनाव में भाजपा द्वारा निकाय चुनाव जीतने का हर सम्भव प्रयास किया गया।।इसके लिए भाजपा ने कई जगहों पर बाहर से आए कार्यकर्ताओ को भी गले लगा लिया।। पर कही ना कही अपने कार्यकर्ताओ को अलग थलग महसूस करने पर मजबूर कर दिया।।

नारी सम्मान की बात करने वाली भाजपा निकाय चुनाव जीतने के लिए अपनी महिला कार्यकर्ता क दरकिनार कर टैग वाले महिलाओ को प्रत्याशी बनाया है।। इसका कई जगहों पर अंदरखाने से विरोध भी सामने आ रहा है।। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण सुभाष चन्द्र बोष नगर से पूर्व में भाजपा से पार्षद रही रेणुका श्रीवास्तव है जिन्होंने पार्टी की गाइडलाइन को दरकिनार कर अब खुद को निर्दल मैदान में उतारा है।। भाजपा ने कई महिला आरक्षित वार्डो में पूर्व पार्षद,वर्तमान पार्षद या किसी बड़े नेता के परिजन को टिकट दिया है जिसका मतलब साथ है कि कही ना कही भाजपा ने महिला कार्यकर्ताओ को दरकिनार किया गया है।। यदि एक दो नाम छोड़ दिया जाए तो सभी महिलाओ के लिए आरक्षित सीट पर टैग वाली महिलाओ को ही टिकट दिया गया है।।अगर हम महिला दावेदारों की बात करते है रेणुका श्रीवास्तव, माया श्रीवास्तव,नेहा मणि, पदमा गुप्ता,अर्चना सिंह,संध्या शाही,चेतना पांडेय आदि ऐसी कईं महिला कार्यकर्ता है जिन्होंने भाजपा के लिए सदैव संघर्ष किया है और महिला कार्यकर्ता के रूप में अपनी पहचान बनाई है।।वही अगर आरक्षित सीटों पर बात करे तो मानबेला सीट ऐसी है जहाँ पर प्रत्याशी सुधा देवी की घोषणा करते वक़्त लिस्ट में स्पष्ट तौर पर लिखा गया है कि ये अमृतलाल भारती की भाभी है। वही सुभाष नगर से पार्षद मोहन सिंह की पत्नी आरती सिंह,पार्षद रमेश गुप्ता की पत्नी संध्या गुप्ता,पार्षद मंतालाल की पत्नी मीरा यादव,पार्षद रणंजय सिंह की माता निर्मला सिंह को उम्मीदवार बनाया गया है।।वही हियुवा के महानगर संयोजक रामभुआल कुशवाह की पत्नी अंजू कुशवाह को महेवा से उम्मीद्वार बनाया गया है।।रामभवन निषाद की पत्नी हिरामती देवी को नौसढ़ से प्रत्याशी बनाया गया है।।

Leave a Reply