International

International (194)

1502527100 Image 1502527076730


बांग्लादेश के अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे में स्थित एयर इंडिया के दफ्तर में आज आग लग गयी. सरकार ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं.
दमकल की दस गाड़ियों को हजरत शाहजलाल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर दोपहर के समय लगी आग को बुझाने में तकरीबन दो घंटे का समय लगा. हवाई अड्डे पर विमानों का सामान्य परिचालन शुरू हो गया है.
नागर विमानन प्राधिकार के प्रवक्ता रेजौल करीम ने बताया, 'हमने शाम चार बजे आग पूरी तरह बुझने के बाद हवाई अड्डे पर सामान्य कामकाज शुरू कर दिया. अधिकारियों ने दमकल सेवा, नागर विमानन और पुलिस अधिकारियों वाली एक समिति को घटना की जांच और इसके कारणों का पता लगाने का जिम्मा सौंपा है.

एअर इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि एअरलाइन के दफ्तर से आग की शुरुआत हुई. हालांकि उन्होंने आग किन कारणों से लगी इसकी बारे में कोई जानकारी नहीं दी. सशस्त्र पुलिस बटालियन के एक ड्यूटी ऑफिसर ने बताया कि हवाई अड्डे की तीसरी मंजिल पर एअर इंडिया और सऊदी एयरलाइन्स का दफ्तर है.
आग लगने के बाद हवाई अड्डे की बिजली आपूर्ति काट दी गयी. इसके साथ उड़ान सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है.

1502180035 Image 1502180021053

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की मदद से अपने इलाज के लिए एक चार महीने का बच्चा भारत आता है और भारत में उसका सफल ईलाज भी हो जाता है। जिस 4 महीने के रोहान की भारत में सफल हॉर्ट सर्जरी हुई उसकी आज डिहाइड्रेशन की वजह से पाकिस्तान में मौत हो गई है।
जून में रोहान का नोएडा के जेपी हॉस्पिटल में ऑपरेशन हुआ था और इसके बाद रोहान करीब एक महीने तक अस्पताल में भर्ती रहा। 12 जून को रोहान को हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था और 14 जून को उसका ऑपरेशन हुआ। एक महीने बाद अस्पताल ने उसे डिस्चार्ज कर दिया जिसके बाद वह अपने पैरंट्स के साथ पाकिस्तान लौट गया था। 
 
मंगलवार को रोहान के पिता कंवल सिद्दीकी ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए बताया, 'कल रात मेरा रोहान इस दुनिया को छोड़कर चला गया। उसकी सफल हार्ट सर्जरी हुई थी, लेकिन थोड़ी सी डिहाइड्रेशन के कारण उसकी मौत हो गयी ।

 
 
32 साल के कंवल सिद्दीकी पाकिस्तान के लाहौर में रहते हैं। वह कई समय से बेटे के इलाज के लिए भारत आने की कोशिश कर रहे थे लेकिन वीजा बैन होने की वजह से उन्हें यात्रा की मंजूरी नहीं मिली। इसके बाद उन्होंने भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर मदद मांगी थी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के हस्तक्षेप के बाद रोहान और उसके पैरंट्स को भारत आने के लिए मेडिकल वीजा मिल गया था। 

1502178777 Image 1502178762558


सोशल मीडिया पर सभी इस बात को लेकर हैरान हैं कि क्य़ा 12 अगस्त को रात नहीं होगी और दिन की तरह उजाला होगा। साथ ही ये भी दावा किया जा रहा है कि 96 साल में पहली बार ऐसा हो रहा है। लेकिन नासा की मानें तो मामला कुछ और ही है। वैज्ञानिक तथ्यों की मानें तो यह चमत्कार नहीं बल्कि एक आकाशीय घटना है और इसके पीछे नासा की रिपोर्ट इस वायरल हो रहे तथ्यों से अलग है। आज हम आपको बताएंगे इस खगोलीय घटना के बारे में। इसके लिए नासा एक लाइव प्रोग्राम भी प्रसारित करेगा। आपको बता दें कि आकाश में कभी-कभी एक ओर से दूसरी ओर तेजी से जाते हुए कुछ पिंड पृथ्वी पर आकर गिरते हैं। इन्हें उल्का कहते हैं। इन्हें 'टूटते हुए तारे' और 'लूका' भी कहा जाता है। वायुमंडल में आने के बाद ये जलने लगते हैं और इनमें से उजाला होता है।  कहते हैं। उल्काओं का जो अंश वायुमंडल में जलने से बचकर पृथ्वी तकआता है उसे उल्कापिंड कहते हैं। स्पेस में कई उल्काएं देखी जा सकती हैं, लेकिन पृथ्वी पर गिरने वाले पिंडों की संख्या बहुत कम होती । दरअसल ऐसी आकाशीय घटनाएं 2000 साल से देखी जा रही हैं। इस साल 12 अगस्त शनिवार को रात में उल्का पिंडों की बारिश होगी। लेकिन इससे कुछ रौशनी होगी होगी पर रात में दिन नहीं होगा और न ही इस बार सबसे ज्यादा उल्का पिंडो की बारिश होगी। ऐसा कहा जा रहा है कि उल्कापात 17 जुलाई को आधिकारिक तौर पर शुरू हुआ था और 27 अगस्त तक चलेगा।  इस साल 12 अगस्त की रात 1 बजे उल्का पिंडों की बारिश अपने चरम पर होगी। इस समय करीब एक घंटे में 150-200 शूटिंग स्टार प्रति घंटा देख सकते हैं। इसके साथ ही आप इन उल्कापिंडों की बारिश को उत्तरी गोलार्द्ध से देख सकते हैं। ये घटना दुनिया भर में हर जगह नहीं बल्कि कुछ ही जगह दिखेगी। इससे पहले भी उल्का पिंडो की बारिश हुई है लेकिन ये अब तक के इतिहास का सबसे बड़ इस खगोलीय घटना को देखने के लिए किसी खास टेली स्कोप की जरूरत नहीं होगी। 

1502163271 Image 1502163259369

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री एक भीषण हादसे से बाल-बाल बच गए. वो जिस रास्ते से गुजरने वाले थे वहां प्लांट किया गया एक बम वक्त से पहले ही फट गया. हालांकि विस्फोट में करीब 35 लोगों के घायल होने की बात की जा रही है. मामला लाहौर का है.
बता दें कि लाहौर में एक जनसभा के लिए के नवाज शरीफ को जाना था. रास्ते में ट्रक के भीतर विस्फोटक प्लांट किया गया था. अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक़ विस्फोटक उपकरण आउट फॉल रोड पर ट्रक में छुपा कर रखा गया था.
रविवार को शरीफ पहले मशहूर ग्रांड ट्रंक रोड के रास्ते इस्लामाबाद से लाहौर लौटने वाले थे लेकिन जिसे ब्लास्ट के बाद स्थगित कर दिया गया. सूत्रों ने कहा, ऐसा प्रतीत होता है कि विस्फोटक शरीफ को निशाना बनाने के लिए रखा गया था. एक अधिकारी ने बताया कि विस्फोटक स्थानीय समयानुसार नौ बजे फट गया. पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर जांच की है. लाहौर में हाल के महीनों में कई आतंकी हमले देखने को मिले हैं. 24 जुलाई को एक तालिबानी आत्मघाती हमलावर ने यहां पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ के कार्यालय के निकट पुलिस की एक टीम पर हमला कर दिया था. जिसमें पुलिसकर्मी सहित 27 लोग मारे गये थे.
अप्रैल में भी लाहौर के बेडैन रोड पर जनसंख्या का आंकड़ा एकत्र करने वाली एक टीम पर एक आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें छह लोग मारे गए थे और 15 घायल हो गये थे. जबकि फरवरी में पंजाब विधानसभा के निकट एक आत्मघाती हमले में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सहित 14 लोग मारे गये थे.

1502010060 Image 1502010052755

डोकलाम विवाद के बीच चीन ने एक बार फिर सीधे-सीधे मोदी सरकार पर निशाना साधा है. सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि मोदी सरकार भारत को जंग की ओर धकेल रही है. अखबार ने यहां तक कहा कि युद्ध होने की स्थिति में नतीजा जगजाहिर है. चीनी अखबार ने लिखा कि डोकलाम में भारतीय सेना पीछे नहीं हटी तो युद्ध तय है और जंग होने पर नतीजा जगजाहिर है. चीनी अखबार ने दंभ भरते हुए अपनी सेना को 50 साल में सबसे मजबूत बताया है.
कम्यूनिस्ट पार्टी के अखबार के संपादकीय में लिखा गया है कि मोदी सरकार अपने लोगों से झूठ बोल रही है कि 2017 वाला भारत 1962 से अलग है. पिछले 50 सालों में दोनों देशों की ताकतों में सबसे बड़ा अंतर है. अगर मोदी सरकार युद्ध करना चाहती है तो उसे कम से कम लोगों को सच्चाई बतानी चाहिए.
इसके अलावा अखबार में छपी खबर के मुताबिक, चीनी सेना डोकलाम में भारतीय सेना के खिलाफ 2 हफ्ते में छोटा ऑपरेशन चला सकती है. इसमें यह भी लिखा है कि चीन सरकार इस ऑपरेशन से पहले भारत सरकार को जानकारी भी देगी. भारत शांति बरतने की अपील कर रहा हो, लेकिन चीनी मीडिया में भड़काऊ लेखों की झड़ी लगी है. शनिवार के लेख में रिसर्चर ने चीन की ओर से तिब्बत में किए सैन्य अभ्यास का भी जिक्र किया गया. रिसर्चर ने लिखा कि भारत ने हाल के सालों में चीन को लेकर अपरिपक्व नीति अपनाई है. उसके विकास की रफ्तार चीन के स्तर का नहीं है. भारत इस इलाके में सिर्फ विवाद चाहता है जिसका हकीकत में विवाद से कोई नाता नहीं है. मंशा चीन के साथ सौदेबाजी करना है.
अखबार ने कहा कि पीएलए ने सैन्य टकराव के लिए पर्याप्त तैयारी की है. युद्ध की स्थिति में परिणाम जगजाहिर है. मोदी सरकार पीएलए की ताकत के बारे में पता होना चाहिए. भारतीय सीमा पर तैनात सैनिक पीएलए क्षेत्र बलों के लिए कोई प्रतिद्वंद्वी नहीं हैं. यदि की स्थिति में पीएलए सीमा क्षेत्र में सभी भारतीय सैनिकों को खत्म करने में पूरी तरह सक्षम है.
अखबार का ये संपादकीय ऐसे समय में आया है, जब पिछले हफ्ते चीन की तरफ भारत से डोकलाम से तुरंत सेना पीछे करने को कहा गया है. अखबार ने कहा कि चीन ने संयम का प्रयोग किया है, साथ ही शांति और मानव जीवन के प्रति सम्मान का प्रदर्शन किया है. पीएलए ने पिछले महीने भी कोई कार्रवाई नहीं की थी, जब भारतीय सैनिकों ने चीनी क्षेत्र में बेवजह रूप से उल्लंघन किया. अगर मोदी सरकार चीन की सद्भावना को कमजोरी मानती रही, तो यही लापरवाही विनाश की ओर ले जाएगा. भारत सार्वजनिक रूप से उस देश को चुनौती दे रहा है जो ताकत में कहीं ज्यादा श्रेष्ठ है. भारत की लापरवाही से चीनी हैरान हैं. इससे पहले चीन के एक सैन्य विशेषज्ञ ने कहा कि उनका देश डोकलाम से अपने सैनिकों को वापस नहीं हटाएगा, क्योंकि अगर वह ऐसा करता है तो भारत को भविष्य में उसके लिए समस्या खड़ी करने का प्रोत्साहन मिलेगा. नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी ऑफ द पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ डिफेंस में सहायक प्राध्यापक यू दोंगशियोम ने कहा कि अगर भारतीय रणनीतिकार और नीति निर्माता यह सोचते हैं कि चीन वापस लौट जाएगा, तो वह गलती कर रहे हैं.
यू दोंगशियोम ने कहा कि भारतीय सैनिकों को बिना शर्त तत्काल वापस हो जाना चाहिए. चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ में यू ने लिखा कि बीजिंग क्योंकि यह क्षेत्र चीन से संबंधित है और ब्रिटेन और चीन के बीच साल 1890 की संधि इस बात का प्रमाण है. उन्होंने कहा, 'अगर चीन अभी पीछे हटता है, तो भारत भविष्य में और अधिक समस्याएं पैदा करने के लिए प्रोत्साहित होगा. बीजिंग और नई दिल्ली के बीच कई सीमाओं पर कई मतभेद हैं, लेकिन डोकलाम इनमें शामिल नहीं है.'
भारत ने कहा है कि अगर चीन अपनी सेना वापस बुलाता है, तो वह भी अपने सैनिकों को वहां से हटा लेगा. चीनी विशेषज्ञ ने कहा, 'कुछ भारतीय रणनीतिकार और नीतिकार इस गलतफहमी में हैं कि चीन निहित स्वार्थों, पीपुल्स लिबरेशन आर्मी में अधूरे सुधारों और चीन-अमेरिका रणनीति में भारत एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है, यह सोचकर वापस लौट जाएगा.'

1501998127 Image 1501998120338

अमेरिका के एयर सेफ्टी रेगुलेटर ने शुक्रवार को एयर इंडिया के विमान को 8 घंटे तक सिर्फ इसलिए उड़ने नहीं दिया क्योंकि तमाम सीट बेल्‍ट्स पर अनिवार्य टैग नहीं लगा हुआ था. इस विमान को शिकागो से दिल्ली की उड़ान भरनी थी. एयर इंडिया के अधिकारियों ने अमेरिकी अधिकारियों के इस कार्रवाई को अव्यावहारिक या अप्रासंगिक बताया है.
एयर इंडिया के Boeing-777 (VT-ALK) विमान को शुक्रवार को जैसे ही शिकागो से नई दिल्ली के लिए उड़ने वाला था फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन (FAA) ने औचक निरीक्षण किया. इसमें बड़ी संख्या में ऐसे सीट बेल्ट मिले जिन पर तकनीकी मानकों के अनुसार जरूरी टैग नहीं था. भले ही ये सुरक्षा से जुड़ा हुआ मामला नहीं था, लेकिन FAA ने विमान को उड़ने की इजाजत नहीं दी.
इसके बाद एयर इंडिया का दूसरा विमान B-777 जोकि न्यूयार्क के जॉन एफ केनेडी एयरपोर्ट पर खड़ा था, वहां से सीट बेल्ट्स को फ्लाइट से मंगाया गया. उसके बाद जब शिकागो के ओ हारे इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर खेड बोईंग विमान में सभी सीट बेट्स को बदला गया. इसके बाद ही 342 सीटर इस विमान को उड़ान की इजाजत दी गई. इस कारण इसमें बैठे सभी यात्रियों को तकरीबन 8 घंटे तक इंतजार करना पड़ा. जानकारी के मुताबिक, 44 पैसेंजर सीट और 12 फ्लाइट अटेंडेंट की सीट को यात्रा के लिहाज से बेकार घोषित किया गया था. इस घटना से एयर इंडिया नाखुश है. इसके कारण के पीछे सीधे तौर पर भारत में बैठे सरकारी अधिकारियों के गैरजिम्मेदाराना रवैया और आलसपूर्ण व्यवहार को बताया जा रहा है.
वहीं इस मामले में एयरइंडिया के प्रवक्ता ने कहा, सीट बेल्ट बिल्कुल ठीक थे, सिर्फ कुछ में जरूरी टैग उखड़ गए थे. ये अमेरिकी अधिकारियों द्वारा की गई अव्यावहारिक या अप्रासंगिक कार्रवाई है. हम जरूरी कदम उठाएंगे ताकि भविष्य में इस तरह की घटना दोबारा न हो. तमाम नई सीट बेल्ट्स के आॅर्डर दिए जा चुके हैं.

भारत की कांग्रेस का कोई भविष्य नहीं, मोदी ने बदल दिया सबकुछ, 2019 में भी मोदी जीतेंगे : अमरीका US थिंक टैंक की बड़ी रिपोर्ट सामने आई है उसमें साफ़-साफ कहा गया है कि,मोदी ने बीजेपी को दिया स्वर्णिम युग, 2019 में फिर बनेगी सरकार मोदी का नही है किसी के पास कोई तोड़ ! जो विपक्ष अमेरिका की कई मोदी विरोधी रिपोर्ट को लेकर हल्ला मचाता आया था आज उसी अमेरिका से आई इस रिपोर्ट पर मौन धारण करके बैठा हुआ है.कांग्रेस ही नहीं सभी मोदी विरोधियों की हवा निकाल दी है US थिंक टैंक की इस रिपोर्ट ने.अगर 2019 में एक बार फिर मोदी सत्ता में आते हैं तो सोच लीजिये भारत के लिए कितना अच्छा होगा और साथ ही देशद्रोहियों के लिए कितना बुरा.जो अलगाववादी कांग्रेस राज में मौज उड़ाते थे आज वो घुटनों के बल पड़े हुए हैं. कानेगी एंडॉमेंट फॉर इंटरनैशनल पीस में साउथ एशिया प्रोग्राम के सीनियर स्कॉलर मिलन वैष्णव ने एक आर्टिकल में लिखा है, ‘नए बदलाव इस बात का संकेत देते हैं कि कांग्रेस की नेहरू-गांधी वंश परंपरा के बाद अब बीजेपी राजनीति का नया केंद्र बनती जा रही है.आज कांग्रेस ने अपनी दुर्गति करवाई है सिर्फ अपनी वजह से एक तरफा वोट बैंक की राजनीती करने में जो काम किया है कांग्रेस ने वो ही उसके अंत का कारण आज बना है. पुत्र मोह में कांग्रेस आज कहाँ से कहाँ आ पहुंची है और वो दिन अब दूर नहीं जब सिर्फ नाम के लिए ही कांग्रेस रह जाएगी.सोचिये जो कांग्रेस हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने के लिए सडक पर गाय काट सकती है और गौमांस खा सकती है अगर वो कुछ और साल सत्ता में रहती तो क्या होता हिन्दुओ का ? US थिंक टैंक की रिपोर्ट में आगे लिखा गया है कि अपनी बिजनस फ्रेंडली पॉलिसिज, राष्ट्रवादी बयानों के जरिए युवाओं की पसंद बने मोदी अब बीजेपी को ऐतिहासिक चुनाव के रास्ते पर ले जा रहे हैं।’ तीन दशकों में पहली बार किसी पार्टी को आम चुनाव में बहुमत मिला, जिसे बीजेपी का स्वर्णिम युग कहा जा सकता है।’

अजीत डोभाल के भारत लौटते ही सनकी जिंगपिंग ने दे डाली भारत को ये धमकी चीन ने एक बार फिर भारत को धमकी दे डाली है l ड्रैगन ने एक बार फिर फुंकार मारी है l चीन ने अपनी सेना की सालगिरह के मौके पर अपनी ताक़त की नुमायश तो की ही, साथ ही चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भारत को धमकी भी दे डाली l सेना की 90वीं सालगिरह से 2 दिन पहले चीन ने परेड कर अपना दम दिखाया l रविवार सुबह उत्तरी चीन के झुर्येई ट्रेनिंग बेस में एक सैन्य परेड का आयोजन किया गया l चीन की पीपुल्स लिबरेशन पार्टी अगले सप्ताह अपनी 90वीं वर्षगांठ मनाएगी, लेकिन उससे पहले ही इस परेड का आयोजन किया गया l चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, कम्युनिस्ट पार्टी के केंद्रीय समिति के जनरल सचिव और केंद्रीय सैन्य आयोग के अध्यक्ष ने सैनिकों का निरीक्षण किया और इस दौरान भाषण भी दिया l जिनपिंग ने पीएलए से मुकाबला करने की तैयारी बढ़ाने और युद्ध को ध्यान में रखते हुए एक विशिष्ट बल बनाने का आग्रह भी किया lआपको बता दें कि चीनी सेना 1 अगस्त को अपनी 90वीं सालगिरह मनाएगी और इस से पहले ही चीनी सेना ने इस परेड का आयोजन किया l गौरतलब है कि चीनी सेना की 90वीं सालगिरह ऐसे समय में पड़ रही है, जब सिक्किम सीमा के पास स्थित डोकलाम को लेकर भारत का उससे गतिरोध जारी है और अभी हाल ही में 90वीं वर्षगांठ से पहले एक विशेष ब्रीफिंग में पीएलए ने डोकलाम पर एक मजबूत संदेश दिया था l इस सन्देश में PLA की तरफ से साथ ही कहा गया था कि डोकलाम में तैनाती भी बढ़ाई जाएगी l राष्ट्रीय रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वरिष्ठ कर्नल वू कियान ने कहा था कि पिछले 90 वर्षों में पीएलए का इतिहास संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए हमारे संकल्प, क्षमता को साबित करता है l पीएलए ने यह भी कहा था कि इस घटना के जवाब में एक ‘आपातकालीन प्रतिक्रिया’ के तौर पर क्षेत्र में और अधिक चीनी सेना उतार सकती है l इसके साथ ही वरिष्ठ कर्नल वू कि़आन ने रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता से डोकलाम पठार पर चीन के सड़क निर्माण का पक्ष भी रखा था l उधर डोकलाम में जारी तनाव के बीच चीनी सेना ने रविवार को जमकर शक्ति प्रदर्शन किया। पीपल्स लिबरेशन आर्मी की स्थापना के 90 साल पूरे होने के मौके पर सुदूर उत्तरी चीन स्थित एक सैन्य बेस पर एक बड़ी मिलिटरी परेड निकाली गई। इसमें नए अडवांस्ड फाइटर जेट्स से लेकर कई चीनी सैन्य टुकड़ियों ने हिस्सा लिया। खास बात यह थी कि प्रेजिडेंट शी चिनफिंग भी इस कार्यक्रम में मौजूद थे। उन्होंने चीनी सेना से ‘युद्ध के लिए तैयार रहने’ के लिए कहा। यह मिलिटरी परेड सामरिक नजरिए से बेहद अहम मानी जा रही है l न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, ऐसा पहली बार हुआ है जब चिनफिंग ने सैन्य टुकड़ियों का इस तरह मुआयना किया हो और वह भी सेना का लिबास पहनकर। 1949 के कम्युनिस्ट आंदोलन के बाद ऐसा भी पहली बार हुआ है जब 1 अगस्त को मनाए जाने वाले आर्मी डे से दो दिन पहले चीन ने अपनी सैन्य ताकत का इस तरह प्रदर्शन किया हो। टैंक, गाड़ियों पर लगे न्यूक्लियर मिसाइल्स, पारंपरिक फाइटर जेट्स से लेकर अत्याधुनिक जे 20 स्टेल्थ विमान भी इस मिलिटरी परेड में शामिल हुए। आपको बता दें कि पूरी दुनिया में चीन के पास सबसे बड़ी पैदल सेना है और चीन फिलहाल अपनी सेना के आधुनिकीकरण में जुटा हुआ है । इसी क्रम में उसने पैदल सैनिकों की संख्या घटाकर तकनीकी विकास पर ज्यादा जोर देने का फैसला किया है । उधर, डोकलाम सीमा पर करीब दो महीने से भारत और चीन की सेना आमने-सामने है। चीनी मीडिया और अधिकारियों द्वारा बार-बार युद्ध की धमकियों के बीच तनाव कम करने की कोशिशें कामयाब होती नहीं दिख रही हैं। भारतीय एनएसए अजीत डोभाल भी हाल ही में चीन के दौरे पर थे, लेकिन सिक्किम सीमा पर जारी गतिरोध को दूर करने का कोई रास्ता नहीं निकल पाया। विदेश नीति के जानकार मानते हैं कि चीन सीमा पर इस टकराव के जरिए भारत का सियासी हौंसला तौल रहा है और उधर चीनी शासकों पर अपनी घरेलू जनता का दबाव बढ़ता जा रहा है। जल्द होने वाले चुनाव के मद्देनजर चीनी राजनेताओं की अपनी जनता के सामने जवाबदेही भी है। ऐसे में चीन की जनता का युद्धप्रेमी तबका भारत को सीमा पर जबरन पीछे ढकेलने के लिए दबाव बना रहा है और इस बीच अंतरराष्ट्रीय दबावों की वजह से भी यह मसला चीन के लिए गले की हड्डी बन गया है।

Page 1 of 17

Media News

  • Bollywood
  • Life Style
  • Trending
  • +18
  • IPL 2017
Post by साकेत सिंह धोनी
- Aug 04, 2017
नवाजुद्दीन सिद्दिकी की आने वाली फिल्म ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ पिछले कुछ समय से लगातार चर्चा में है। अपने ट्रेलर से लेकर ...
Post by पुनीत पाण्डेय
- Jul 27, 2017
मुलेठी (यष्टीमधु ) - मुलेठी से हम सब परिचित हैं | भारतवर्ष में इसका उत्पादन कम ही होता है | यह ...
Post by साकेत सिंह धोनी
- Aug 09, 2017
दक्षिण-पूर्व चीन के गुआंगजौ शहर के लोग उस समय हैरान रह गए जब एक 12 साल के लड़के को शहर की सड़कों पर बस चलाते देखा। इससे ...
Post by साकेत सिंह धोनी
- Aug 17, 2017
बॉलीवुड की लैला सनी लियोनी का जादू लोगों पर ऐसा चलता है कि लोग उन्हें पर्दे पर देखकर दीवाने हो जाते हैं. हाल में सनी एक ...
Post by साकेत सिंह धोनी
- Aug 18, 2017
भारतीय टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज सुरेश रैना को यूएई में स्थित गल्फ पेट्रोकेम ग्रुप, जीपी पेट्रोलियम लिमिटेड ने ...
Top
We use cookies to improve our website. By continuing to use this website, you are giving consent to cookies being used. More details…