lucknow

अफसर पत्नी ने नॉन वेज खाने से रोका, तो पति ने उठाया यह खौफनाक कदम….

राजधानी के गोमतीनगर के विपुलखण्ड-5 में बुधवार देर रात डॉक्टर उमाशंकर गुप्ता ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। डॉक्टर और उनकी पत्नी के बीच नॉनवेज खाने को लेकर विवाद हो गया था। जिसके बाद डॉक्टर ने आत्महत्या कर ली। पत्नी वाणिज्य कर विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने उमाशंकर को फंदे से उतारकर अस्पताल पहुंचाया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

-डॉक्टर की पत्नी दीप्ति वाणिज्य कर विभाग के मण्डल कार्यालय में खण्ड-20 की असिस्टेंट कमिश्नर हैं। उमाशंकर की कठौता के पास चाइल्ड केयर के नाम से क्लीनिक है। शादी के बाद से उमाशंकर ससुराल में ही रह रहे थे।
-जब दीप्ति ने उमाशंकर के दरवाजा खटखटाया तो कोई जवाब नहीं मिला। जिसके बाद दीप्ति ने क्लीनिक पर काम करने वाले कर्मचारी हेमंत पाण्डेय को फोन कर बुलाया। हेमंत के आने पर उसने पड़ोसी आरएन सिंह को भी मदद के लिए बुलाया। जवाब न मिलने पर मामले की सूचना पुलिस को दी गयी।
-पुलिस मौके पर पहुंची और दरवाजा तोड़कर देखा तो पंखे से उमाशंकर लटकते मिले। आनन-फानन में पुलिस ने घरवालों संग मिलकर उन्हें उतारा और मेयो अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने उमाशंकर गुप्ता को मृत घोषित कर दिया।

क्या कहना है पुलिस का

-जानकारी मिलते ही सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह भी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने कमरे में छानबीन की लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। पुलिस ने घर के हॉल में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली तो उसमें दोनों विवाद करते नजर आए। पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है।

-इंस्पेक्टर पीके झा ने बताया- “रोजाना की तरह बुधवार रात करीब साढ़े दस बजे उमाशंकर क्लीनिक से लौटे। वे बिरयानी लेकर आए थे। उन्होंने बेटी आद्या को भी नॉनवेज बिरयानी खिलाई। दीप्ति ने यह देखा तो वह नाराज हो गईं। दीप्ति शाकाहारी हैं। इसी बात को लेकर दोनों के बीच विवाद बढ़ गया। कुछ देर बाद उमाशंकर दूसरे कमरे में चले गये और फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।” फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

नहीं मिला सुसाइड नोट

-इंस्पेक्टर ने बताया कि कमरे में छानबीन की गयी लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। पड़ताल के दौरान नॉनवेज को लेकर पति-पत्नी के बीच विवाद की बात सामने आयी है।
-सीसीटीवी फुटेज को कब्जे में लिया गया है। गुरुवार को पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

छह साल पहले हुआ था प्रेम विवाह

-पड़ताल के दौरान सामने आया कि उमाशंकर गुप्ता व दीप्ति ने एक साथ ही ग्रेजुएशन किया था। मूल रूप से शाहजहांपुर पुलिस लाइन के पीछे रहने वाले हरिशंकर गुप्ता आर्डिनेंस फैक्ट्री से रिटार्यड हैं।
-बेटे उमाशंकर व दीप्ति के बीच प्रेम-प्रसंग था। ग्रेजुएशन के बाद उमाशंकर ने एमबीबीएस और फिर एमबी किया था। डाक्टर होने के बाद करीब छह साल पहले उन्होंने दीप्ति से शादी की थी। शादी के बाद उमाशंकर ससुराल में ही आकर रहने लगे थे।
-यही नहीं शादी के बाद उमाशंकर के कहने पर दीप्ति ने पढ़ाई कर ध्यान दिया। वर्तमान में वह वाणिज्यकर विभाग में असिस्टेंट कमिश्नर हैं।