Sports

लगातार हो रही आलोचना पर धोनी ने तोड़ी चुप्पी, विरोधियों को दिया ये करारा जवाब….

न्यूजीलैंड के हुए टी-20 सीरीज के दौरान अपनी फॉर्म और फिनिशिंग की काबिलियत को लेकर लगातार हो रही आलोचना के बीच टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पहली बार चुप्पी तोड़ी है। धोनी ने अपने आलोचकों को बड़े ही सधे हुए अंदाज में जवाब दिया है। धोनी ने कहा है कि ‘सबका देखने का अपना नजरिया है और सबको अपनी बात कहने का हक है।’

आपको बता दें, धोनी ने ये बातें पूर्व तेज गेंदबाज अजित अगरकर के बयान के जवाब में कही है। न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी-20 में टीम इंडिया के हार के बाद अजित अगरकर ने धोनी के टी-20 भविष्य पर सवाल उठाये थे जिसके बाद क्रिकेट जगत में हलचल मच गई थी। यहां तक कि पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण भी अगरकर की ही तरह राय रखते हैं। हालांकि, दो बार के विश्व विजेता टीम के कप्तान इससे ज़रा सा भी परेशान नहीं दिखे।जब अगरकर की टिपण्णी को लेकर धोनी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘टीम इंडिया में खेलना ही सबसे बड़ी प्रेरणा है। आपने ऐसे कई क्रिकेटर्स देखे होंगे जिनमे गॉड गिफ्टेड टैलेंट नहीं है लेकिन, फिर भी वे काफी आगे गए। इसकी वजह सिर्फ जुनून है। कोच को उन्हें ढूंढना पड़ता है, हर किसी को देश के लिए खेलने का मौक़ा नहीं मिलता है।’ धोनी ने ये बातें दुबई में अपनी पहली इंटरनेशनल क्रिकेट अकादमी लांच के दौरान कही।

हेलीकॉप्टर शॉट को लेकर पूछे गए सवाल पर धोनी ने कहा कि मैंने इसे तब सीखा था, जब मैं रोड पर टेनिस बॉल क्रिकेट खेलता था। ये काफी मुश्किल है। टेनिस बॉल क्रिकेट में अगर बॉल बैट के निचले हिस्से पर लगे, तब जाकर काफी दूर तक जाती है। लेकिन, नॉर्मल क्रिकेट में इसे बैट के बीच वाले हिस्से से मारना पड़ता है। इसलिए इसपर काफी मेहनत करनी पड़ती है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहते कि युवा ऐसे शॉट ट्राई करे क्योंकि इससे उन्हें घायल होने की संभावना है।

Leave a Reply