Uttar Pradesh

बड़ी खबर :-ताज का दीदार होगा महंगा, एंट्री फीस के अलावा बदलने वाला है एक और नियम….

अब ताजमहल देखने के लिए भारतीय पर्यटकों को अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी. केन्द्र सरकार भारतीय पर्यटकों के लिए ताजमहल की एंट्री टिकट की दरों में 10 रुपये की बढ़ोतरी करने जा रही है. जबकि विदेशी पर्यटकों की टिकट दरों में कोई बढ़ोतरी नहीं की जाएगी. इसके अलावा ‘लपका कल्चर’ पर रोक लगाने के लिए सरकार कुछ नई गाइडलाइंस भी जारी करने की तैयारी में है. सूत्रों के मुताबिक ताजमहल की सैर के लिए अब आपको 50 रुपये की टिकट लेनी पड़ेगी. आपको बता दें कि अभी ताजमहल को नजदीक से देखने के लिए आपको एंट्री फीस के तौर 40 रुपये खर्च करने पड़ते थे.

बदलने वाला है ताज के दीदार का नियम
एंट्री फीस के अलावा ताजमहल को लेकर जो बड़ा बदलाव होने वाला है वह है परिसर में बिताये जाने वाले वक्त को लेकर. जानकारी के मुताबिक अब आप ताजमहल परिसर में पूरा दिन नहीं बिता पाएंगे. अब आप ताजमहल में महज कुछ ही घंटे घूम सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक सरकार भारतीय पर्यटकों के लिए ताजमहल में अधिकतम 3-4 घंटे का वक्त निर्धारित करने वाली है. यही नहीं अगर आप ताजमहल परिसर में तय वक्त से ज्यादा समय में निकलते हैं तो आपके ऊपर जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

 इसलिए बदला जा रहा है नियम
बताया जा रहा है कि सरकार यह नियम अनाधिकृत गाइडों पर रोकथाम के लिए लाने की तैयारी कर रही है. दरअसल, स्थानीय अनाधिकृत गाइड सुबह टिकट लेकर ताजमहल में प्रवेश कर जाते हैं और देर शाम तक वहां पर पर्यटकों को अलग-अलग चीजों के लिए रिझाने की कोशिश करते रहते हैं. सरकार को शिकायत मिली थी कि ताज परिसर में दलाल दिन भर पर्यटकों को घेर कर होटल और टैक्सी बुक करने का दबाव बनाते हैं. दलालों पर रोक लगाने के लिए संस्कृति मंत्रालय ताजमहल को लेकर नए दिशा-निर्देश तैयार कर रहा है.

पर्यटकों की सुरक्षा महत्वपूर्ण
संस्कृति मंत्रालय और ASI के जुड़े सूत्रों का कहना है कि पर्यटकों की सुरक्षा के मद्देनजर ही ताजमहल के नियमों में बदलाव किया जा रहा है. ताज का टिकट रेट इसलिए बढ़ाया जा रहा है ताकि अनाधिकृत लोगों के प्रवेश को कम किया जा सके. दलालों से पर्यटकों को बचाने के लिए ही समय सीमा भी निर्धारित की जा रही है.