Uttar Pradesh

नमकीन के दो पैकेट न मिलने पर सात साल के बच्चे ने लगाई फांसी…..

उत्तर प्रदेश के मथरा जिले में सात वर्ष के बच्चे ने नमकीन के दो पैकेट न मिलने पर गले में फांसी लगाकर जान दे दी. पिता ने उसे नमकीन का एक पैकेट दिया था लेकिन वह एक साथ दो पैकेट की ज़िद कर रहा था. पुलिस के अनुसार मामला फरह थाना क्षेत्र के गांव नगला बर्र का है. जहां खेत-मजदूर पदम सिंह बघेल एक फेरी वाले से बच्चों के लिए नमकीन के पांच पैकेट लेकर घर पहुंचा. उसने सबसे छोटे बेटे सौरभ और उससे बड़े दो बेटे व एक बेटी को एक-एक पैकेट बांट दिया.

लेकिन, सौरभ अकेले ही दो पैकेट की ज़िद करने लगा. इस पर पिता ने मना करते हुए उसे डांट दिया. इसके बाद पिता तो उस बात को भूल गया, लेकिन सौरभ गुस्से में घर के बाहर निकला और कपड़े सुखाने के लिए बांधी गई रस्सी के बांस पर फंदा लगाकर झूल गया. उसकी मौके पर ही मौत हो गई. पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया. थाना प्रभारी इंस्पेक्टर वीरेन्द्र सिंह ने घटना की पुष्टि करके हुए कहा, ”क्योंकि, सौरभ के घर वाले उसके शव का पोस्टमार्टम नहीं कराना चाहते थे इसलिए कागजी कार्रवाई पूरी करने के पश्चात उन्हें शव सौंप दिया गया.”

बीते 24 घंटे में ही जिले की एक अन्‍य बड़ी घटना में अपने एक रिश्तेदार के पास हाथरस जा रहे भरतपुर के एक दंपति की मोटर साइकिल फतेहपुर सीकरी नहर में गिर जाने से दंपति और उनके छोटे बच्चे की मौत हो गई. सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार घटना शनिवार दोपहर बाद उस समय हुई जब भरतपुर के ठेई गांव (चिकसाना) निवासी सलमू उर्फ सलीम (25) पत्नी हसीना उर्फ सलमा (22) एवं ढाई साल के बेटे फैयाज़ के साथ अपने रिश्तेदार से मिलने के लिए मोटर साइिकल से हाथरस जा रहे थे.

घटना के समय मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों ने पुलिस को बताया कि सामने से आ रहे एक वाहन से टक्कर होने से बचने के लिये बाइकसवार ने जैसे ही गाड़ी हल्की सी मोड़ी कि तभी वह तेजी से नहर में जा गिरी. पानी के तेज बहाव के साथ बाइक चला रहे सलमू का शव इतनी दूर बह गया कि देर शाम तक उसका पता नहीं मिल पाया जबकि, गोताखोरों का प्रयास जारी था.

Leave a Reply